अब 22 दिसंबर को तीसरी बार फिर से होगी डिपो की नीलामी, फिर से आएंगे नए खरीदार

देश गांव
धार Published On :
depot land auction

धार। शहर के बीचो-बीच करोड़ों रुपये की डिपो की संपत्ति तीसरी बार फिर नीलामी के लिए तैयार है व इसकी विज्ञप्ति जारी की गई है। एक बार फिर नए खरीदार मैदान में होंगे।

पिछले दो बार हुई टेंडर प्रकिया के दौरान खरीदार जमीन देखने आये, लेकिन टेंडर में हिस्सा नहीं लिया। वहीं एक बार फिर से नए सिरे से टेंडर प्रकिया जारी की गई है।

विभाग को उम्मीद है कि इस बार डिपो के लिए कोई न कोई खरीदार मिल जायेगा। हालांकि, डिपो की जमीन का खरीदार नहीं मिल रहा है।

17 नवंबर को हुई ऑनलाइन नीलामी में सिंगल टेंडर होने से नीलामी प्रक्रिया को निरस्त कर दिया है। अब दोबारा 22 दिसंबर को नीलामी रखी गई है।

तीसरी बार डिपो की जमीन बेचने के लिए नए सिरे से टेंडर जारी किए हैं। इसके पहले भी दो बार टेंडर जारी हो चुके हैं, लेकिन पहली प्रक्रिया में किसी ने भी भाग नहीं लिया था जबकि दूसरी बार हुए टेंडर में सिंगल टेंडर आने से प्रक्रिया निरस्त कर दी गई।

लोक परिसंपत्ति प्रबंधन की जमीन –

लोक परिसंपत्ति प्रबंधन विभाग ने पूरे प्रदेश में डिपो की जमीनों को नीलाम किया है, लेकिन धार और आलीराजपुर की जमीन की नीलामी के लिए विभाग को खरीदार नहीं मिल रहा है।

धार की जमीन की बात करें तो यहां पर जमीन का मुख्य गेट और उसके आसपास फ्रंट का एरिया काफी कम है। इस कारण खरीदार जमीन खरीदने में दिलचस्पी नहीं ले रहे हैं जबकि यह जमीन मोहन टॉकिज से लगी हुई है और बेशकीमती है।

सिंगल टेंडर होने से निरस्त की गई प्रक्रिया –

17 नवंबर को हुई नीलामी के दौरान सिंगल टेंडर प्राप्त हुआ है। इसमें रतन एम्पोरियम इंदौर ने भाग लिया था। कंपनी की तरफ से बेस प्राइज पर 10 हजार रुपये अधिक की बोली लगाई थी। सिंगल नाम होने के कारण टेंडर निरस्त कर दिया गया।

25.56 करोड़ रुपये है जमीन की कीमत –

इस जमीन को नीलाम करने के लिए लोक परिसंपत्ति प्रबंधन विभाग ने तीसरी बार टेंडर जारी किए हैं। इस बार भी संपत्ति का बेस प्राइज 25.56 करोड़ रुपये रखा है।

इस बार नीलामी 22 दिसंबर को होना है। यह भी ऑनलाइन ही होगी। इसके तहत 0.7724 हेक्टेयर यानी 7 हजार 724 वर्ग मीटर जमीन की नीलामी होगी।

अभी होता है पार्किंग के रूप में इस्तेमाल –

अभी खाली पड़ी डिपो की जमीन आसपास गांवों के लोग शहर में खरीदारी के लिए आते है। उनके लिए डिपो की जगह पार्किंग के रूप में उपयोग होती है। अन्य जिलों के बसों का भी यहां पार्किंग के रूप में उपयोग किया जाता है।

यहां से कई लोगों का रोजगार भी चल रहा है जिससे डिपो के जमीन की विज्ञप्ति जारी होने से आम लोगों में चर्चा का विषय बना हुआ है। पिछले दिनों एसडीएम दीपाश्री गुप्ता व तहसीलदार विनोद राठौड़ ने इस डिपो का दौरा किया था।

सिंगल टेंडर के कारण प्रक्रिया निरस्त –

सिंगल टेंडर होने के कारण प्रक्रिया निरस्त कर दी गई है। अब दोबारा नए सिरे से टेंडर लगाए हैं। इसके तहत 22 दिसंबर को नीलामी रखी गई है। – अर्पित पटेल, अधिकारी, लोक परिसंपत्ति प्रबंधन विभाग



Related