MPPSC परीक्षाः 27 केंद्रों पर पहले सत्र में 6 हजार 491 व दूसरे में 6 हजार 441 परीक्षाथी हुए शामिल


मध्यप्रदेश राज्य सेवा एवं राज्य वन प्रारंभिक परीक्षा रविवार को हुई। इसमें एमपी पीएससी की प्रारंभिक परीक्षा के लिए शहर में बनाए गए 27 परीक्षा केंद्रों पर सख्त इंतजाम रहे। इन केन्द्रों पर कुल 8611 परीक्षार्थी शामिल होकर परीक्षा देने की व्यवस्था थी।


देश गांव
धार Published On :
mppsc exams

धार। दो साल से कोरोना के कारण लगातार परीक्षाएं लंबित थीं। कोरोना के बाद कोई परीक्षा नहीं हुई थी। परीक्षा को लेकर विद्यार्थियों में जुनून था और 2022 में सिविल परीक्षा सेवाओं में अधिक से अधिक विद्यार्थियों ने भाग लिया।

जिले में 8 हजार से अधिक विद्यार्थियों ने आवेदन किए थे लेकिन परीक्षा में 6 हजार 491 लोग ही शामिल हुए।

मध्यप्रदेश राज्य सेवा एवं राज्य वन प्रारंभिक परीक्षा रविवार को हुई। इसमें एमपी पीएससी की प्रारंभिक परीक्षा के लिए शहर में बनाए गए 27 परीक्षा केंद्रों पर सख्त इंतजाम रहे। इन केन्द्रों पर कुल 8611 परीक्षार्थी शामिल होकर परीक्षा देने की व्यवस्था थी।

परीक्षा कक्ष में जूते-मोजे व चेहरे को ढंककर आना प्रतिबंधित था। इसके अलावा परीक्षा कक्ष में एसेसरीज जैसे बालों का क्लचर, बक्कल, घड़ी, हाथ में पहने जाने वाले किसी भी प्रकार के बैंड, बेल्ट, चश्मे, पर्स, वॉलेट, टोपी आदि लाना भी वर्जित था।

परीक्षा के लिए जिला स्तर पर परीक्षा नोडल अधिकारी, उड़नदस्ता दल एवं पुलिस बल की व्यवस्था की गई थी।

दो सत्रों में हुई परीक्षा, काले बॉलपेन का किया उपयोग –

यह परीक्षा दो सत्रों में हुई। प्रथम सत्र सुबह 10 बजे से दोपहर 12 बजे तक और द्वितीय सत्र दोपहर 2.15 से सांय 4.15 बजे तक का था।

प्रथम सत्र में सुबह 9.30 बजे के पहले ही परीक्षार्थी केंद्रों पर पहुंच गए व अपने-अपने रोल नंबर देखने लगे एवं द्वितीय सत्र में दोपहर 1.45 बजे से प्रवेश दिया गया।

परीक्षा में काले बॉलपेन का ही उपयोग किया गया। बच्चे अन्य रंग के पेन परीक्षा में उपयोग के लिए लाए थे मगर उन्हें मनाकर दिया गया जिसके बाद उन्होंने जैसे-तैसे काले बॉलपेन का इंतजाम किया।

परीक्षार्थियों को प्रवेश पत्र, फोटोयुक्त मूल परिचय पत्र, यात्रा भत्ता के लिए जाति प्रमाण पत्र की सत्यापित छायाप्रति लाना अनिवार्य था।

पर्याप्त सुरक्षा व्यवस्था, नौ उड़नदस्ते थे –

मध्यप्रदेश लोक सेवा आयोग द्वारा राज्य सेवा एवं राज्य वन प्रारंभिक परीक्षा-2021 आयोजन को लेकर 27 परीक्षा केन्द्र स्थापित किए गए थे।

कलेक्टर डॉं. पंकज जैन ने आयोजित होने वाली परीक्षा की देख-रेख एवं पर्याप्त सुरक्षा व्यवस्था निगरानी के लिए नौ उडनदस्ते के दल गठित कर अनुविभागीय दण्डाधिकारी एवं कार्यपालिक दण्डाधिकारी को नोडल अधिकारी नियुक्त किया था।

परीक्षा केन्द्रों का समय-समय पर उड़नदस्ते द्वारा निरीक्षण किया और साथ ही परीक्षा केन्द्रों के आकस्मिक निरीक्षण संबंधी जानकारी भी प्रस्तुत की गई।



Related