आंगनबाड़ी केन्द्रों का निरीक्षण, लापरवाह आंगनबाड़ी कार्यकर्ता व सहायिका की सेवा समाप्त


आंगनबाड़ी केन्द्र बड़ी बिल्दरी की आंगनवाड़ी कार्यकर्ता मधु खेड़े एवं सहायिका भुरीबाई आंगनबाड़ी केन्द्र पर उपस्थित नहीं पाई गई जबकि सहायिका के पति ने निरीक्षण के समय आंगनबाड़ी केन्द्र खोला था।


देश गांव
धार Published On :
dhar-welfare-scheme-check

धार। कलेक्टर आलोक कुमार सिंह द्वारा दिये गये निर्देशानुसार आंगनबाड़ी केन्द्रों का सतत् भ्रमण किया जा रहा है। इसी क्रम में जिला कार्यक्रम अधिकारी सुभाष जैन एवं मुख्य निर्देशक, आंगनबाड़ी प्रशिक्षण केन्द्र इन्दर सिंह बुन्देला द्वारा मंगलवार को एकीकृत बाल विकास परियोजना गंधवानी की विभिन्न आंगनबाड़ी केन्द्रों का निरीक्षण किया गया।

इस दौरान स्वसहायता समूह द्वारा प्रदान किये जा रहे रेडी टू इट, पोषण पुनर्वास केन्द्र में भर्ती बच्चों, पोषण ट्रेकर में की जा रही प्रविष्टि, लाडली लक्ष्मी योजना, प्रधानमंत्री मातृ वंदना योजना, मुख्यमंत्री बाल कल्याण योजना आदि विभागीय योजनाओं का मौके पर जाकर निरीक्षण किया जा रहा है।

आंगनबाड़ी केन्द्र बड़ी बिल्दरी की आंगनवाड़ी कार्यकर्ता मधु खेड़े एवं सहायिका भुरीबाई आंगनबाड़ी केन्द्र पर उपस्थित नहीं पाई गई जबकि सहायिका के पति ने निरीक्षण के समय आंगनबाड़ी केन्द्र खोला था।

आंगनबाड़ी केन्द्र पर एक्सपायरी दवाइयां एवं आयरन सीरप पाया गया। कार्यकर्ता गंधवानी से आना-जाना करती हैं एवं एक सप्ताह में 2-3 बार आंगनबाड़ी केन्द्र पर आती है। आंगनबाड़ी कार्यकर्ता की सेवा समाप्त करने की कार्यवाही हेतु परियोजना अधिकारी गंधवानी को निर्देशित किया गया।

इसी प्रकार आंगनबाड़ी केन्द्र पीथमपुर की सहायिका रेखाबाई गंधवानी से आना-जाना करती है, उन्हें कारण बताओ नोटिस जारी कर पद से पृथक करने की कार्यवाही की जाएगी।

केन्द्र पर समूह द्वारा रेडी टू इट का नियमित वितरण नहीं किया जा रहा है। इस हेतु समूह के देयक से एक सप्ताह की राशि काटी जाएगी।

आंगनबाड़ी केन्द्र जामली डावरपुरा, गाडरियापुरा एवं बोरफल्या में स्व सहायता समूह द्वारा रेडी टू इट का प्रदाय नहीं किया जा रहा है। अतः समूह का अनुबंध समाप्त कर नवीन समूह को कार्य देने हेतु परियोजना अधिकारी को निर्देशित किया गया।

आंगनबाड़ी केन्द्र कोटा बयड़ीपुरा में 2 आंगनबाड़ी केन्द्र संचालित पाये गये। नर्मदा स्वसहायता समूह द्वारा केन्द्र पर रेडी टू इट का नियमित प्रदाय नहीं करने के कारण माह जुलाई के देयक से 15 दिवस की राशि काटने हेतु परियोजना अधिकारी को निर्देशित किया गया।

आंगनबाड़ी केन्द्रों पर दी जा रही सेवाओं की गुणवत्ता पर ध्यान नहीं देने के कारण सेक्टर पर्यवेक्षक के विरुद्ध अनुशासनात्मक कार्यवाही की जाएगी।

दूसरे दल में विकान्त भास्कर दामले सहायक संचालक, महिला एवं बाल विकास द्वारा एकीकृत बाल विकास परियोजना धरमपुरी की ग्रामीण एवं शहरी क्षेत्र की आंगनबाड़ी केन्द्रों का भ्रमण किया गया। आंगनबाड़ी केन्द्र रूपट्टा में टीकाकरण एवं रेडी टू इट वितरण का अवलोकन किया गया।

टेकहोम राशन एवं रेडी टू इट के संबंध में हितग्राहियों से चर्चा की गई। स्वसहायता समूह द्वारा रेडी टू इट का प्रदाय किया जाना पाया गया। सही मात्रा एवं गुणवत्तायुक्त रेडी टू इट वितरण करने हेतु समूह को निर्देशित किया गया।

आंगनबाड़ी केन्द्रों के निरीक्षण के पश्चात् एकीकृत बाल विकास परियोजना कार्यालय धरमपुरी में पर्यवेक्षकों की बैठक ली गई। बैठक में पोषण पुनर्वास केन्द्र, I-MAM, पोषण ट्रेकर, रेडी टू इट लाड़ली लक्ष्मी योजना एवं प्रधानमंत्री मातृ वंदना योजना के लक्ष्य एवं उपलब्धि की समीक्षा की गई।



Related