आजादी का अमृत महोत्सव: तीन दिनी फोटो प्रदर्शनी में होंगे क्रांतिकारियों व महापुरूषों के दुर्लभ चित्र


आजादी का अमृत महोत्सव 12 मार्च से शुरू होगा, जिसके तहत महू में तीन दिनी फोटो प्रदर्शनी भी शुरू होगी। यह फोटो प्रदर्शनी आंबेडकर स्मारक पर लगेगी जिसका शुभारंभ मप्र की संस्कृति मंत्री व विधायक उषा ठाकुर करेंगी।


अरूण सोलंकी अरूण सोलंकी
इन्दौर Updated On :
azadi-ka-amrit-mahotsav

महू। आजादी का अमृत महोत्सव 12 मार्च से शुरू होगा, जिसके तहत महू में तीन दिनी फोटो प्रदर्शनी भी शुरू होगी। यह फोटो प्रदर्शनी आंबेडकर स्मारक पर लगेगी जिसका शुभारंभ मप्र की संस्कृति मंत्री व विधायक उषा ठाकुर करेंगी।

प्रदर्शनी का आयोजन सूचना और प्रसारण मंत्रालय के लोकसंपर्क एवं संचार ब्यूरो द्वारा मध्यपदेश शासन के स्वराज संस्थान के सहयोग से किया गया है। बाबा साहेब आंबेडकर स्मारक स्थल पर आयोजित इस प्रदर्शनी का शुभारंभ 12 मार्च को सुबह नौ बजे संस्कृति मंत्री व स्थानीय विधायक उषा ठाकुर करेंगी।

इंदौर के सहायक निदेशक मधुकर पवार ने बताया कि दो भागों में आयोजित इस प्रदर्शनी में सन 1857 से लेकर 1947 तक की प्रमुख घटनाओं और मध्यप्रदेश के प्रमुख क्रांतिकारियों की जानकारी दी जाएगी।

भारत की स्वतंत्रता के लिये संघर्ष शीर्षक से लाला लाजपत राय, बाल गंगाधर तिलक, विपिनचंद्र पाल, खुदीराम बोस, मदनलाल ढींगरा, लाला हरदयाल, भीकाजी कामा, करतार सिंह सराभा, गोपाल कृष्ण गोखले आदि महापुरूषों के चित्र प्रदर्शित होंगे। इसी खंड में राष्ट्रपिता महात्मा गांधी, सरदार वल्लभभाई पटेल और नेताजी सुभाषचंद्र बोस के अनेक चित्र होंगे।

इसके अलावा स्वतंत्रता की ओर शीर्षक से उधमसिंह, सरोजिनी नायडू, लाला लाजपत राय, मदनमोहन मालवीय, गोविंद वल्लभ पंत, भगत सिंह, चंद्रशेखर आजाद, रामप्रसाद बिस्मिल, असफाक उल्लाह खान, खान अब्दुल गफ्फार खान, मौलान अबुल कलाम आजाद, सुखदेव, राजगुरू, डॉ. भीमराव आंबेडकर, जयप्रकाश नारायण, आचार्य विनोबा भावे, लाल बहादुर शास्त्री, अरूणा आसफ अली, डॉ. राम मनोहर लोहिया आदि महापुरूषों और क्रांतिकारियों के चित्र शामिल हैं।

पवार ने बताया कि प्रदर्शनी के दूसरे खंड में मध्यप्रदेश के क्रांतिकारियों के चित्र प्रदर्शित किये जाएंगे। मध्यप्रदेश के क्रांतिकारी शीर्षक से जिन क्रांतिकारियों के चित्र प्रदर्शित किये गये हैं उनमें राणा बख्तावर सिंह, ठाकुर रणमत सिंह, शंकर शाह, रघुनाथ शाह, तात्या टोपे, अमर शहीद चंद्रशेखर आजाद, टंट्या भील, भीमा नायक, सीताराम कंवर, रघुनाथ सिंह मंडलोई, रानी अवंतीबाई, रानी दुर्गावती, झलकारी बाई, सुभद्रा कुमारी चौहान, टुरिया शहीद मुड्डे बाई और भीमा बाई के चित्र शामिल हैं।

पवार ने बताया कि यह प्रदर्शनी विशेषकर विद्यार्थियों के लिये उपयोगी है। प्रदर्शनी में प्रवेश निःशुल्क है जिसका समापन 14 मार्च को होगा।