इंदौर में 1498 तो भोपाल में 1857 नए संक्रमित, स्कूलों पर फिर पड़ सकता है संक्रमण का असर


बताया जा रहा है कि इंदौर में कोरोना का पीक अब गुजर चुका है और अब यह भोपाल में अगले दो दिनों में देखा जा सकता है।


देश गांव
इन्दौर Published On :
binary comment


इंदौर। कोरोना संक्रमण के बढ़ने के डर के बीच गुरुवार इंदौर के लिए राहत भरा रहा जब यहां नए संक्रमितों की संख्या कुछ कम सुनने को मिली। गुरुवार को जारी रिपोर्ट के मुताबिक बीते चौबीस घंटों में जिले में 1498 नए संक्रमित मिले हैं। हालांकि इस दौरान दो लोगों की मौत भी संक्रमण के चलते बताई गई है। इस तरह कोरोना संक्रमण की तीनों लहरों में अब तक जिले में 1418 लोगों की मौत हो चुकी है।  इस बीच बताया जा रहा है कि इंदौर में कोरोना का पीक अब गुजर चुका है और अब यह भोपाल में अगले दो दिनों में देखा जा सकता है।

इसके साथ गुरुवार में भोपाल में संक्रमितों की संख्या 1857 रही। यहां एक मरीज की मौत की भी खबर है। इसके साथ ही ग्वालियर में 282, जबलपुर में 650 नए संक्रमित मिले हैं।

संक्रमण के चलते भले ही वर्तमान स्थिति बहुत खतरनाक न दिखाई दे रही हो लेकिन लगातार बढ़ रहे मामले चिंता का विषय हैं। ऐसे में एक बार फिर स्कूलों की पढ़ाई में व्यवधान नजर आ रहा है।

सरकार ने 31 जनवरी तक स्कूलों को पहले ही बंद कर दिया है और अब आशंका है कि यह अवधि और भी बढ़ सकती है। गृह मंत्री नरोत्तम मिश्रा ने गुरुवार को इसके संकेत दिये हालांकि उन्होंने यह भी स्पष्ट किया कि इस बारे में आख़िरी फैसला मुख्यमंत्री ही लेंगे।

संक्रमण की स्थिति को लेकर मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान लगातार समीक्षा कर रहे हैं। इस बीच प्रदेश के कई अधिकारी और राजनेता भी संक्रमित हो चुके हैं। गुरुवार सुबह खंडवा के मंधाता से विधायक नारायण पटेल के संक्रमित होने की ख़बर आई।

इससे पहले बुधवार को प्रदेश में आठ लोगों ने संक्रमण से दम तोड़ा था। इस दौरान शिवपुरी में इंदौर की ही तरह ओमिक्रॉन का नया वैरिएंट बीए टू स्ट्रेन मिला है। शिवपुरी में आठ लोगों में इसकी पुष्टी हुई है। इससे पहले इंदौर में भी कुछ मरीजों में यह वैरिएंट मिल चुका था। बीए टू स्ट्रेन सबसे तेजी से फैलने वाला वैरिएंट है।