किन्नर समुदाय की लोगों से घरों में रहने की अपील, सुबह-शाम करते हैं संकट खत्म होने की दुआएं


म लोगों की खुशियों में शरीक होकर कभी शादी समारोह में तो कभी घर में नये मेहमान के आने पर नाच-गाकर आशीर्वाद देने वाले किन्नर समुदाय ने महामारी के संकटकाल में लोगों से अपील की है कि वो घरों से न निकलें।


देश गांव
इन्दौर Published On :
kinnar-indore

इंदौर। आम लोगों की खुशियों में शरीक होकर कभी शादी समारोह में तो कभी घर में नये मेहमान के आने पर नाच-गाकर आशीर्वाद देने वाले किन्नर समुदाय ने महामारी के संकटकाल में लोगों से अपील की है कि वो घरों से न निकलें।

इतना ही नहीं भारत सहित समूचे विश्व में फैली महामारी को समाप्त करने के लिए किन्नर समुदाय ईश्वर से हर रोज दुआ मांग रहा है कि विश्व को महामारी के संकट से निजात दिलायें ताकि सभी खुश और आबाद रह सकें।

ऊपर वाले से हर रोज दुआएं मांगने वाले किन्नरों की दुआओं में कितना दम होता है, ये तो सभी जानते हैं लेकिन महामारी के इस दौर में उनके जीवन पर बुरा असर पड़ा है।

हालांकि जैसे-तैसे वो अपना जीवन संकट के इस दौर में काट रहे हैं। किन्नरों ने लॉकडाउन का पालन करते हुए बधाई मांगने सहित अपने सभी कार्यों पर रोक लगा दी है।

इंदौर के नंदलालपुरा किन्नर डेरे पर तो आलम ये है कि यहां रहने वाले किन्नर 250 वर्ष पुरानी अपने गुरु की मजार पर सुबह-शाम एकत्र होकर कोरोना संकट को खत्म करने की दुआएं मांग रहे हैं।

kinnar-indore-corona

नंदलालपुरा डेरे पर रहने किन्नर अदृश्य वायरस को हराने के लिए न सिर्फ माता रानी से प्रार्थना कर रहे हैं बल्कि रोजे रखने वाले किन्नर बढ़ते संक्रमण की डोर को थामने की अल्लाह से भी दुआ फरमा रहे हैं।

उनकी दुआ है कि संकट की ये घड़ी जल्द समाप्त हो जाये और उनका घर चलाने वाले सभी लोग सुरक्षित रहें। किन्नर मानते हैं कि आम आदमी अपनी जान बचाने की जद्दोजहद में लगा हुआ है।

दूसरी तरफ, इंदौर का जिला एवं पुलिस प्रशासन लगातार लोगों से अपील कर रहा है कि बढ़ते संक्रमण को देखते हुए घरों से ना निकलें, लेकिन उसके बावजूद भी लोग नहीं मान रहे हैं और संक्रमण को बढ़ा रहे हैं। लिहाजा किन्नर समुदाय ने लोगों से अपील की है कि वे घरों पर रहें और सुरक्षित रहें।

किन्नर सीमा कुंवर ने बताया कि सरकार और प्रशासन को ज्यादा मेहनत कर लोगों की जान की रक्षा करनी चाहिए। जब संत लोगों की मदद के लिए आगे आ रहे है तो जनप्रतिनिधियों को भी लोगों की मदद के लिए आगे आना चाहिए।

उन्होंने बताया कि उन्हें दुःख हो रहा है कि कुंभ में शामिल होने गए संत की मौत कोरोना के कारण हो जाती है और पति कोरोना से मर जाता है तो पत्नी फांसी लगा लेती है इसलिए प्रशासन को एक योजना के तहत काम कर लोगों को महामारी से छुटकारा दिलाने का प्रयास करना चाहिए।

फिलहाल, किन्नर सुबह-शाम 30-30 मिनट सामूहिक रूप से कोरोना जैसी महामारी के खात्मे के लिए ईश्वर, अल्लाह से प्रार्थना कर दुआएं मांगते हैं ताकि जल्द से जल्द महामारी खत्म हो और जिंदगी फिर से पटरी पर लौट सके।



Related