राजगढ़ः कई हादसों के बाद जागा प्रशासन, नाले से 150 मीटर दूर बनाया स्पीड ब्रेकर


– तकनीकी खामी खोजने पहुंचे अफसर, बेरीकेट्स लगाकर कट प्वॉइंट पर रोकी लेन क्रॉसिंग।
– सड़क विकास प्राधिकरण के महाप्रबंधक अजय खत्री, कलेक्टर नीरज कुमार सिंह ने मंगलवार को किया मुआयना।
– स्पीड ब्रेकर से हादसों का ग्राफ कम होने की उम्मीद।


रवि श्रीवास्तव रवि श्रीवास्तव
राजगढ़ Published On :
rajgarh-speed-breaker
नाले से 150 मीटर दूरी पर मंगलवार को बनाए स्पीड ब्रेकर।


राजगढ़। जयपुर-जबलपुर नेशनल हाइवे पर शहरी सीमा में आए दिनों होने वाले हादसों के बाद अब जाकर प्रशासन की नींद टूटी है और इसे रोकने के लिए कवायद शुरू की है।

रविवार को 50 फीट गहरे नाले में चूना लदे ट्रक के गिरने व उसमें एक की मौत के बाद प्रशासन ने हाइवे पर पेट्रोल पंप के सामने बैरिकेट्स लगाकर एक लेन से दूसरे लेन में आने-जाने के लिए कट प्वॉइंट को बंद कर दिया।

अस्थाई तौर पर बैरिकेटिंग के अलावा वाहनों की गति नियंत्रित करने के लिए नाले से 150 मीटर दूरी पर स्पीड ब्रेकर भी बनाए गए हैं।

rajgarh-road-crossing
पेट्रोल पंप के सामने बैरिकेटिंग कर पुलिस ने रोकी लेन क्रॉसिंग।

स्पीड ब्रेकर बनाने व कट प्वॉइंट को बंद करने के पीछे तर्क दिया गया है कि यहां से तेज गति से कोई भी वाहन न गुजरे व डेंजर जोन में एक लेन से दूसरे लेन में वाहनों का प्रवेश न हो।

इससे पहले मंगलवार को कलेक्टर नीरज कुमार सिंह ने मप्र सड़क विकास प्राधिकरण के महाप्रबंधक अजय खत्री, प्रबंधक सुमित गुप्ता आदि के साथ मौके पर जाकर तकनीकी खामी को देखा व समझा।

इस दौरान अपर कलेक्टर केसी नागर ने एमपीआरडीसी के अधिकारियों से चर्चा कर दुर्घटनाओं को रोकने संबंधी कार्रवाई करने के निर्देश दिए। यहां एसडीएम पल्लवी वैद्य भी मौजूद थीं।

रविवार को जिस नाले पर हादसा हुआ, वह नाला काफी लंबा-चौड़ा है। पेट्रोल पंप वाले हिस्से के अलावा पहाड़ी के ऊपर जाने वाले आंतरिक मार्ग के किनारों से कई बार वाहन इस नाले में गिर चुके हैं।

ऐसे में यहां से गुजरने वाले वाहनों की गति नियंत्रित करने के अलावा नाले के किनारों पर रेलिंग बनाने की दरकार है। जानकारों का कहना है कि नाले के किनारों पर रेलिंग बनाने से हादसों को काफी हद तक रोकने में मदद मिलेगी।



Related