पंचायत चुनावों की घोषणा, प्रदेश में आचार संहिता लागू


चुनाव दलीय आधार पर नहीं हो रहे हैं, इसलिए इसमें किसी भी राजनीतिक पार्टी का अधिकृत चुनाव चिन्ह उपयोग नहीं होगा।


देश गांव
राजनीति Published On :
पंचायत चुनाव


भोपाल। प्रदेश में पंचायत चुनाव की आचार संहिता लागू हो चुकी है। शनिवार चार दिसंबर को पहले पातालपानी और फिर इंदौर में शिवराज सरकार द्वारा आयोजित किये गए आदिवासी सम्मेलन के बाद शाम को चुनाव आयोग की ओर से चुनावों का ऐलान किया गया।

शनिवार शाम करीब चार बजे  राज्य निर्वाचन आयुक्त बसंत प्रताप सिंह ने त्रिस्तरीय पंचायत चुनाव की तारीखों की घोषणा कर दी। इसके मुताबिक पहले चरण का मतदान 6 जनवरी 2022 को होगा और दूसरे एवं तीसरे  के वोट 28 जनवरी और 16 फरवरी को डलेंगे। इंदौर, भोपाल, ग्वालियर सहित प्रदेश के नौ जिलों में एक ही चरण में चुनाव संपन्न होंग वहीं  सात जिलों में दो चरणों में  और 36 जिलों में तीन चरणों में मतदान होगा।

चुनाव दलीय आधार पर नहीं हो रहे हैं, इसलिए इसमें किसी भी राजनीतिक पार्टी का अधिकृत चुनाव चिन्ह उपयोग नहीं होगा। राज्य निर्वाचन आयोग अलग से चुनाव चिन्ह आवंटित करेगा। हालांकि, आचार संहिता के दायरे में सभी राजनीतिक दल आएंगे।

यह रहेगी प्रक्रिया

सरपंच और पंच के उम्मीदवारों को निर्वाचन कार्यालय में जाकर फॉर्म भरकर जमा कराने होंगे, जबकि जिला पंचायत के लिए ऑनलाइन नामांकन दाखिल किए जाएंगे। जिला और जनपद सदस्य में वोटिंग EVM से होगी। ग्राम स्तर पर मतपत्र के जरिए वोटिंग कराई जाएगी। प्रदेश में 22 हजार 695 ग्राम पंचायतों में चुनाव होगा। इसके लिए 71 हजार 398 पोलिंग बूथ बनाए जाएंगे। चुनाव का मेगा शो आखिरी चरण में होगा।

सभी पदों के लिए धरोहर राशि

जिला पंचायत सदस्य के लिए नामांकन के साथ धरोहर राशि 8 हजार रुपए, जनपद के लिए 4 हजार और ग्राम पंचायत सरपंच के लिए 2 हजार और पंच के लिए 400 रुपए जमा करानी होगी। अनूसूचित जाति, अनुसूचित जनजाति, ओबीसी, महिलाओं को निर्धारित से आधी राशि जमा करनी होगी। नामांकन पत्र दाखिल करने जाते समय अभ्यर्थी अपने साथ अधिकतम दो लोग ले जा सकेंगे। कार्यालय जाते समय दो वाहनों का ही प्रयोग कर सकते हैं।

9 जिलों में एक ही दिन में मतदान

नौ जिलों में एक ही चरण में वोटिंग होगी। यानि एक ही दिन में प्रक्रिया पूरी हो जाएगी। ये नौ जिले भोपाल, इंदौर, ग्वालियर, निवाड़ी, अलीराजपुर, पन्ना, नरसिंहपुर, हरदा और दतिया हैं।

7 जिलों में दो चरणों में चुनाव

सात जिलों में दो चरणों में चुनाव होंगे। ये जिले जबलपुर, बुरहानपुर, सिंगरौली, उमरिया, अनूपपुर, श्योपुर और देवास हैं।

36 जिलों में तीन चरणों में वोटिंग

  • इनमें राजगढ़, रायसेन, सीहोर, विदिशा, खरगोन, खंडवा, धार, झाबुआ, बड़वानी, गुना, शिवपुरी, अशोकनगर, छिंदवाड़ा, सिवनी, बालाघाट, मंडला, डिंडौरी, कटनी, उज्जैन, नीमच, रतलाम, शाजापुर, आगर-मालवा, मंदसौर, सागर, छतरपुर, दमोह, टीकमगढ़, रीवा, सीधी, सतना, होशंगाबाद, बैतूल, शहडोल, भिंड और मुरैना।

ऐसा रहेगा कार्यक्रम

  • प्रथम चरण के चुनाव के लिए 13 दिसंबर 2021 से नामांकन पत्र मिलेंगे।
  • नाम निर्देशन पत्र प्राप्त करने की अंतिम तिथि 20 दिसंबर रहेगी।
  • पत्रों की जांच 21 दिसंबर को सुबह 10:30 बजे से होगी।
  • 23 दिसंबर को दोपहर 3 बजे तक नाम वापस लिए जा सकेंगे।
  • 23 दिसंबर को नाम वापसी के ठीक बाद चुनाव लड़ने वाले उम्मीदवारों की सूची तैयार होगी। उन्हें चुनाव चिन्ह आवंटित किए जाएंगे।
  • जरूरी होने पर 6 जनवरी 2022 को मतदान होगा।

दूसरा चरण

  • 13 दिसंबर 2021 से नामांकन पत्र मिलेंगे।
  • नाम निर्देशन पत्र प्राप्त करने की अंतिम तिथि 20 दिसंबर रहेगी।
  • पत्रों की जांच 21 दिसंबर को सुबह 10:30 बजे से होगी।
  • 23 दिसंबर को दोपहर 3 बजे तक नाम वापस लिए जा सकेंगे।
  • 23 दिसंबर को नाम वापसी के ठीक बाद चुनाव लड़ने वाले उम्मीदवारों की सूची तैयार होगी। उन्हें चुनाव चिन्ह आवंटित किए जाएंगे।
  • 28 जनवरी 2022 को मतदान होगा।

तीसरा चरण

  • चुनाव के लिए 30 दिसंबर से नामांकन पत्र मिलेंगे।
  • नाम निर्देशन पत्र प्राप्त करने की अंतिम तिथि 6 जनवरी 2022 रहेगी।
  • पत्रों की जांच 7 जनवरी को सुबह 10:30 बजे से होगी।
  • 10 जनवरी दोपहर 3 बजे तक नाम वापस लिए जा सकेंगे।
  • अंतिम सूची 10 जनवरी को ही जारी की जाएगी। चुनाव चिन्ह आवंटित किए जाएंगे।
  • मतदान 16 फरवरी 2022 को होगा।

कैसे होगी मतगणना

पंच और सरपंच पद के मतों की काउंटिंग मतदान के बाद पोलिंग बूथ की जाएगी।

जनपद और जिला पंचायत सदस्य के लिए मतगणना विकासखंड मुख्यालय पर होगी।

यहां लिए जाएंगे नामांकन पत्र

जिला पंचायत सदस्य के लिए नामांकन पत्र जिला मुख्यालय पर, जनपद सदस्य के जिला विकासखंड मुख्यालय, पंच और सरपंच पद के लिए विकासखंड और कलस्टर मुख्यालय पर लिए जाएंगे।

कंट्रोल रूम बनाया

राज्य निर्वाचन आयोग मुख्यालय पर कंट्रोल रूम बनाया गया है। इस 0755-2551076 नंबर पर निर्वाचन संबंधी शिकायत कर सकते हैं। जिलास्तर पर अलग से कंट्रोल रूम बनाए जाएंगे।

144 ग्राम पंचायतों में चुनाव बाद में

प्रदेश में 114 ग्राम पंचायतों का कार्यकाल मार्च 2022 के बाद पूर्ण होगा। इन पंचायतों में पंच व सरपंच का चुनाव अलग से कराया जाएगा, लेकिन इन पंचायत क्षेत्रों से संबंधित जनपद पंचायत सदस्य व जिला पंचायत सदस्य का निर्वाचन अभी कराया जाएगा।

यहां देख सकेंगे मतदाता सूची

इस बार चुनाव में टेक्नोलॉजी का इस्तेमाल भी देखने को मिलेगा। जहां जिला पंचायत सदस्य और जनपद पंचायत सदस्य ऑनलाइन फॉर्म भर सकेंगे। इसके लिए वे अपने लैपटॉप या डेस्कटॉप, एमपी ऑनलाइन या लोकसेवा केंद्र के माध्यम से नामांकन जमा कर सकेंगे। हालांकि, हार्ड कॉपी भी रिटर्निंग ऑफिसर को निर्धारित समय में जमा करना अनिवार्य है। मतदाता सूची देखने के लिए एमपी इलेक्शन की वेबसाइट पर सुविधा दी गई है। इसके अलावा चुनाव मोबाइल ऐप पर भी जानकारी हासिल की जा सकती है।

बूथ पर मिलेंगे ग्लव्ज

मतदाताओं को पोलिंग बूथ पर ही ग्लव्ज दिए जाएंगे। इन्हें पहनकर ही वोटिंग कर सकेंगे।

प्रदेश में इतने मतदाता

प्रदेश में कुल 3 करोड़ 92 लाख 51 हजार 811 मतदाता हैं। इनमें पुरुष मतदाता 2 करोड़ 02 लाख 30 हजार 95 है। वहीं, महिला मतदाता 1 करोड़ 90 लाख 20 हजार 672 हैं। अन्य मतदाता 1044 हैं। प्रदेश में 71 हजार 398 मतदान केंद्र बनाए गए हैं। चुनाव के लिए 4.25 लाख कर्मचारी तैनात किए जाएंगे।

 

(साभार- दैनिक भास्कर)



Related