लड़की हूं लड़ सकती हूं… कामतानाथ के दर्शन को चित्रकूट पहुंची प्रियंका गांधी


नव विहार कर मतगजेंद्र नाथ मंदिर पहुंचकर किया पूजन


देश गांव
राजनीति Published On :
चित्रकूट में सभा को संबोधित करती कांग्रेस नेत्री प्रियंका गांधी


भोपाल। चुनावों की बयार बह चली है और नेता इसके लिए कमर कस रहे हैं। उत्तर प्रदेश में चुनाव सबसे ज्यादा नजदीक हैं। जहां कांग्रेस का नेतृत्व प्रियंका गांधी वाडरा कर रहीं हैं। बुधवार को वे चित्रकूट पहुंची जहां उन्होंने एक सभा ली और पवित्र पर्वत की पांच किलोमीटर परिक्रमा की।

सुनो द्रौपदी शस्त्र उठा लो अब गोविंद न आएंगे, कैसी रक्षा मांग रही हो दु:शासन दरबारों से… सुनो द्रौपदी शस्त्र उठा लो अब गोविंद न आएंगे… कुछ इन्हीं शब्दों के साथ बुधवार को प्रियंका गांधी ने महिला संवाद की शुरुआत की। सतना पहुंची प्रियंका ने चित्रकूट के राम घाट सैकड़ों महिलाओं से राजनीति में आकर देश और समाज को नई दिशा में लेकर जाने को कहा।

यहां पर उन्होंने नव विहार कर मतगजेंद्र नाथ मंदिर पहुंचकर पूजन किया। उन्होंने कामतानाथ के दर्शन भी किए। गौरतलब है कि प्रियंका उप्र चुनाव के लिए जगह-जगह दौरा कर रही है। चित्रकूट का कुछ हिस्सा उप्र में और कुछ हिस्सा मप्र में है।

लड़की हूं… लड़ सकती हूं…
प्रियंका के आने काे लेकर घाट पर लगे पोस्टरों पर लिखा था- लड़की हूं, लड़ सकती हूं। इसका मतलब समझाते हुए प्रियंका ने कहा कि महिलाएं अपनी शक्ति काे पहचानें… अब वे किसी से मदद की आस न लगाएं। मैं ताे कहती हूं कि 40% महिलाओं काे राजनीति में आकर उप्र में विधानसभा चुनाव लड़ना चाहिए। कुछ काे इस बार सफलता मिलेगी, कुछ को असफलता, लेकिन हमें लड़ना होगा… लड़ेंगे तब ही जीतेंगे।

प्रियंका ने कहा कि 40% भागीदारी एक शुरुआत है। लोकसभा के चुनाव में हमारी ये कोशिश रहेगी कि 50% टिकट महिलाओं को दिया जाए। आपका शोषण किया जा रहा है, आप पर अत्याचार किया जा रहा है, आपको पीटने वालों से आप अपना हक मांगेंगे तो कभी नहीं मिलेगा… अपने हक के लिए लड़ना पड़ेगा, जो सरकार आपके लिए कुछ कर ही नहीं रही है तो उसे आगे क्यों बढ़ाना?

राजनीति में आजकल बहुत क्रूरता और हिंसा है
प्रियंका ने बताया कि मैं यहां आपसे इसलिए बात करने आई हूं कि अपना मन बना लीजिए। आप आधी आबादी हैं, तो एकजुट होकर आप अपना हक क्यों नहीं मांग रही हैं? राजनीति में आपकी भागीदारी सुनिश्चित है। महिलाएं लड़ेंगी और लड़ने से समाज और राजनीति में एक बहुत बड़ा बदलाव आएगा। कोई ऐसा राजनैतिक दल नहीं होगा जो उन्हें रोक पाएगा। राजनीति में आजकल बहुत क्रूरता और हिंसा है।

लखीमपुर में मंत्री के बेटे ने किसानों को कुचल ​दिया। सरकार ने अत्याचारी की मदद की। हिंसा को खत्म करने के लिए महिलाओं का राजनीति में आना जरूरी है। महिलाओं में करुणा भाव होता है। राजनीति में हिंसा, क्रूरता, अत्याचार और शोषण खत्म करने के लिए महिलाओं का आगे आना जरूरी है। आप आगे आइए ताकि हम राजनीति, समाज और पूरे देश को बदल सकें।

कामतानाथ के दर्शन करने पहुंची प्रियंका, लगाई मौन परिक्रमा
यूपी चुनाव की तैयारी में जुटी कांग्रेस के अभियान के तहत महिलाओं को साधने चित्रकूट पहुंची राष्ट्रीय महासचिव प्रियंका गांधी वाड्रा ने रामघाट पर महिला संवाद के बाद भगवान कामतानाथ के दर्शन किए। उन्होंने कामदगिरि पर्वत की 5 किमी लंबी परिक्रमा भी लगाई। परिक्रमा के समय प्रियंका ने मौन धारण कर रखा था।



Related