पीएम मोदी के ऊपर जो आंख उठाए उसकी उंगली तोड़ देनी चाहिएः संस्कृति मंत्री उषा ठाकुर


विवादित कृषि कानूनों के बारे में लोगों की सकारात्मक राय बनाने के प्रयास भाजपा की ओर से तेज़ हो गए हैं। इस बीच भाजपा नेता बहुत से दिलचस्प और विवादित बयान भी दे रहे हैं। आंदोलनकारी किसानों का साथ दे रहे अन्य संगठनों को देशद्रोही कहा जा रहा है तो सरकार के विरोध में खड़े किसान संगठनों को कुकरमुत्ता और सांप-बिच्छु की संज्ञा दी जा रही है। यह बयान मध्यप्रदेश सरकार के मंत्रियों की ओर से आ रहे हैं।


देश गांव
राजनीति Updated On :

भोपाल।  मध्य प्रदेश के किसान कल्याण एवं कृषि मंत्री कमल पटेल ने विवादित कृषि कानूनों का विरोध कर रहे किसान संगठनों पर बयान दिया है। उन्होंने विरोध कर रहे इन संगठनों को ‘कुकुरमुत्ता’ कहा है। इसके अलावा मंत्री उषा ठाकुर ने कहा कि जो भी पीएम नरेंद्र माेदी पर काेई आंख उठाएगा ताे उसकी आंख नहीं बचनी चाहिए। उसकी अंगुली ताेड़ देनी चाहिए।

सोमवार को वे उज्जैन में मीडिया से बात कर रहे थे। यहां उन्होंने कहा कि  ‘500 किसान यूनियनें कुकरमुत्‍तों की तरह सामने आ गई हैं, ये किसान यूनियनें नहीं हैं, ये बिचौलियों और देश विरोधी संगठनों से जुड़े लोग हैं। वे विदेशी ताकतों द्वारा वित्त पोषित हैं, जो नहीं चाहते कि देश मजबूत हो।’

वहीं मंत्री उषा ठाकुर ने अपने विधानसभा क्षेत्र महू में भी कार्यकर्ताओं को संबोधित किया। उन्होंने कहा कि…

देश में कुछ देशद्राेही वामपंथी एकजुट हाेकर किसान आंदाेलन के नाम पर केंद्र सरकार द्वारा बनाए कृषि कानून काे लेकर किसानों में भ्रम फैला रहे हैं। हमें उन देशद्राेही ताकताें काे मुंह ताेड़ जवाब देना है। बाकायदा इसका जवाब हम तथ्य और प्रमाण के साथ किसानाें काे देंगे। यदि देश के पीएम नरेंद्र माेदी पर काेई आंख उठाएगा ताे उसकी आंख बचनी नहीं चाहिए। उसकी अंगुली ताेड़ देनी चाहिए। उसे मुंह ताेड़ जवाब देना चाहिए।

उल्लेखनीय है कि कृषि कानूनों को लेकर में मध्यप्रदेश में भी प्रदर्शन हो रहे हैं। नरसिंहपुर, शाजापुर, इंदौर आदि में प्रदर्शनों की ख़बरें आर हीं हैं। यहां भाजपा ने कानूनों के सर्मथन में किसानों को जागरुक करने का बीड़ा उठाया है। इसके लिए किसान सम्मेलन आयोजित किए जा रहे हैं।

पटेल से पहले प्रदेशाध्यक्ष बीडी शर्मा ने भी किसान आंदोलन को हवा दे रहे संगठनों पर जमकर निशाना साधा है। उन्होंने कहा कि इस तरह से किसानों को भ्रमित और गुमराह करने की साज़िश रची जा रही है। उन्होंने कहा कि कांग्रेस के लोग भ्रम फैलाकर आंदोलन खड़ा कर रहे हैं। ऐसे लोग किसानों के साथ खड़े होकर आंदोलन कर रहे हैं जो खुद 10 दिन में कर्जमाफी का वायदा करके भूल गए थे।

मध्यप्रदेश में किसान आंदोलन के सर्मथन में हैं किसान पढ़िये ख़बरें…

किसान आंदोलन के सर्मथन में नरसिंहपुर के किसानों ने अर्धनग्न होकर किया प्रदर्शन

इंदौरः कृषि बिलों के विरोध में किसान संगठनों ने दिया धरना, मंडियों में चलाएंगे जनजागरण



Related