राज्यसभा चुनाव के नतीजे: राजस्थान को छोड़कर सभी जगह मज़बूत रही भाजपा, महाराष्ट्र में शिवसेना को झटका


राजस्थान में मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने कांग्रेस के लिए जीत दिलाने में अहम भूमिका निभाई तो वहीं महाराष्ट्र और हरियाणा में स्थिति कुछ अलग दिखी।
– राजस्थान से जहां मीडिया टायकून सुभाष चंद्र चुनाव हार गए तो वही हरियाणा से मीडिया इंडस्ट्री के ही कार्तिकेय शर्मा जीत गए, यह दोनों ही भारतीय जनता पार्टी समर्थित निर्दलीय प्रत्याशी थे।


देश गांव
राजनीति Updated On :

नई दिल्ली। 4 राज्यों की 16 सीटों पर राज्यसभा चुनाव के नतीजे स्पष्ट हो चुके हैं। शुक्रवार सुबह से शुरू हुए मतदान के नतीजे देर रात देखने को मिले। इसकी वजह हरियाणा और महाराष्ट्र में नियमों के उल्लंघन की शिकायतें थी। जिसके चलते मतदान के बाद गिनती करीब 8 घंटे तक रुकी रही और चुनाव आयोग के फैसले के बाद ही देर रात दोबारा शुरू हो सकी। इन दोनों ही राज्यों में भारतीय जनता पार्टी का प्रदर्शन बेहतर रहा।

इन चुनावों में जहां राजस्थान में कांग्रेस का दांव भारी रहा। यहां चुनाव नतीजे काफी पहले आ गए थे। राजस्थान में मुख्यमंत्री अशोक गहलोत पूरी तरह जिम्मेदारी संभाले हुए थे और चुनावों में कांग्रेस को तीन और भारतीय जनता पार्टी को 1 सीट मिली। यहां निर्दलीय उम्मीदवार टीवी टायकून सुभाष चंद्रा चुनाव हार गए। यही हाल कर्नाटक का भी रहा। यहां भाजपा ने तीन और कांग्रेस ने 1 सीटें जीती। पूर्व केंद्रीय मंत्री जयराम रमेश और मौजूदा वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण राज्यसभा की सदस्य बन गई हैं।

हरियाणा राज्य की बात करें तो यहां एक सीट भाजपा के कृष्णलाल पंवार ने जीती है और दूसरी सीट भाजपा समर्थित रहे निर्दलीय उम्मीदवार मीडिया कारोबारी कार्तिकेय शर्मा ने जीती है। कार्तिकेय शर्मा पूर्व केंद्रीय मंत्री विनोद शर्मा के बेटे हैं। हालांकि यहां वोटों की गफलत के चलते देर रात तक सियासी ड्रामा चलता रहा। एक बार तो कार्तिकेय शर्मा कांग्रेस के अजय माकन से चुनाव हारते दिखाई दिए। कांग्रेस ने गफलत में माकन की जीत का प्रचार कर दिया और राज्य इकाई ने पहले अजय माकन की जीत की खुशी में ट्वीट भी किया था, लेकिन बाद में उन ट्वीट को डिलीट कर दिया गया।

यहां हॉर्स ट्रेडिंग की बात भी हुई। दरअसल चुनाव में कुल 89 वोट डाले गए। एक वोट रद्द होने के बाद 88 वोट मान्य हुए। भाजपा के कृष्णलाल पंवार को जीत के लिए 31 वोट चाहिए थे जबकि कांग्रेस को 30 मत। कांग्रेस का एक वोट रद्द हुआ तो 29 रह गए। वहीं कार्तिकेय को 28 वोट मिले, लेकिन वैध मत की संख्या 88 होने के कारण कृष्ण लाल पंवार के पहली प्राथमिकता के 1.66 फीसदी वोट कार्तिकेय को मिलने के कारण वह जीत गए। कांग्रेस के पोलिंग एजेंट बीबी बत्रा ने कहा-कुलदीप बिश्नोई ने पार्टी के प्रत्याशी को वोट नहीं डाला। इस वजह से माकन की हार हुई। यदि वह कांग्रेस प्रत्याशी को वोट देते तो माकन का जीतना पक्का था।

महाराष्ट्र में 6 सीटों पर आए निर्णय के मुताबिक महाविकास अघाड़ी के 3 और भाजपा के 3 प्रत्याशियों की जीत हुई है। छठवीं सीट पर लेकर महाविकास अघाड़ी को नुकसान हुआ। इस सीट पर भाजपा के धनंजय महाडिक ने शिवसेना के संजय पवार को हरा दिया। धनंजय महाडिक को 41.58 और संजय पवार 39.26 वोट मिले।

महाविकास अघाड़ी गठबंधन को मिली जीत में शिवसेना के संजय राउत को 41, कांग्रेस के इमरान प्रतापगढ़ी को 44 और एनसीपी के प्रफुल पटेल को 43 वोट मिले। वहीं बीजेपी के पीयूष गोयल को 48 और अनिल बोंडे को 48 मत हासिल हुए।

कर्नाटक में सत्तारूढ़ भाजपा ने राज्यसभा के लिए चार सीटों पर हुए चुनाव में उन तीनों सीट पर जीत दर्ज की, जिसपर उसने अपने उम्मीदवार खड़े किए थे। वहीं, कांग्रेस के खाते में केवल एक सीट आई, जबकि उसने दो सीट पर अपने उम्मीदवार उतारे थे। वहीं, जेडीएस के खाते में कुछ नहीं गया है।

 

 

 

 



Related