कोरोना वैक्सीन का साइड इफेक्टः भारत में 68 साल के बुजुर्ग की एलर्जी से हुई मौत


भारत में कोरोना वैक्सीन की वजह से पहली मौत की पुष्टि सरकार की ओर से गठित पैनल ने की है। पैनल के मुताबिक, 68 साल के बुजुर्ग की मौत टीका दिए जाने के बाद एलर्जी से हुई है।


देश गांव
दवा-दारू Published On :
death-from-corona-vaccine

नई दिल्ली। भारत में कोरोना वैक्सीन की वजह से पहली मौत की पुष्टि सरकार की ओर से गठित पैनल ने की है। पैनल के मुताबिक, 68 साल के बुजुर्ग की मौत टीका दिए जाने के बाद एलर्जी से हुई है।

भास्कर में छपी खबर के मुताबिक, 68 साल के बुजुर्ग को 8 मार्च को वैक्सीन की डोज दी गई थी, जिसके बाद उनमें एनाफिलैक्सिस जैसे साइड इफेक्ट दिखे थे। इसके बाद उनकी मौत हो गई थी। ये एक तरह का एलर्जिक रिएक्शन होता है। इससे शरीर में बहुत तेजी से दाने उभरते हैं।

वैक्सीन लगने के बाद कोई गंभीर बीमारी या मौत होने को वैज्ञानिक भाषा में एडवर्स इवेंट फॉलोइंग इम्यूनाइजेशन (AEFI) कहा जाता है। AEFI के लिए केंद्र सरकार ने एक कमेटी गठित की है। इस कमेटी ने वैक्सीन लगने के बाद हुई 31 मौतों की असेसमेंट करने के बाद पहली मौत की पुष्टि की है।

रिपोर्ट के मुताबिक, AEFI कमेटी के चेयरमैन डॉ. एनके अरोड़ा की अध्यक्षता में तैयार की गई रिपोर्ट में बताया गया कि दो और लोगों में वैक्सीन लगने के बाद एनाफिलैक्सिस की समस्या सामने आई। इनकी उम्र 20 साल के आसपास थी।

हालांकि, हॉस्पिटल में इलाज के बाद दोनों पूरी तरह रिकवर हो गए थे। इन्हें 16 और 19 जनवरी को वैक्सीन लगाई गई थी। डॉ. अरोड़ा ने मामले में आगे कुछ भी कहने से इनकार कर दिया है।

जानकारी के मुताबिक, तीन और मौतों की वजह कोरोना से बताव वाले वैक्सीन को माना गया है, लेकिन अभी पुष्टि होनी बाकी है। सरकारी पैनल की रिपोर्ट कहती है कि वैक्सीन से जुड़े हुए अभी जो भी रिएक्शन सामने आ रहे हैं, उनकी उम्मीद पहले से ही थी।

इनके लिए मौजूदा साइंटिफिक एविडेंस के आधार पर वैक्सीनेशन को जिम्मेदार ठहराया जा सकता है। ये रिएक्शन एलर्जी से संबंधित या एनाफिलैक्सिस जैसे हो सकते हैं।



Related