MP में कोरोनाः उज्जैन, विदिशा, ग्वालियर, नरसिंहपुर और सौंसर में भी रविवार को लॉकडाउन


मध्यप्रदेश में कोरोना संक्रमण के बढ़ते मामलों को देखते हुए विदिशा, उज्जैन, ग्वालियर व नरसिंहपुर शहरों के साथ छिंदवाड़ा जिले के सौंसर में भी रविवार को लॉकडाउन का ऐलान कर दिया गया है।


देश गांव
इन्दौर Updated On :
mp-corona-lockdown

इंदौर। मध्यप्रदेश में कोरोना संक्रमण के बढ़ते मामलों को देखते हुए विदिशा, उज्जैन, ग्वालियर व नरसिंहपुर शहरों के साथ छिंदवाड़ा जिले के सौंसर में भी रविवार को लॉकडाउन का ऐलान कर दिया गया है।

इससे पहले भोपाल, इंदौर, जबलपुर, रतलाम, बैतूल और छिंदवाड़ा और खरगोन में रविवार को लॉकडाउन का ऐलान किया जा चुका है। इस तरह 12 शहरों में इस रविवार लॉकडाउन रहेगा।

वहीं, 30 मार्च से इंदौर और भोपाल शहर के सरकारी दफ्तरों में आधे ही कर्मचारियों को बुलाया जाएगा और पहले की तरह ही रोटेशन सिस्टम लागू हो सकता है।

मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने शुक्रवार की शाम को मंत्रालय में प्रदेश के वरिष्ठ अधिकारियों के साथ कोरोना की स्थिति एवं व्यवस्थाओं की समीक्षा की। इस बैठक में मुख्य सचिव इकबाल सिंह बैंस, पुलिस महानिदेशक विवेक जौहरी, अपर मुख्य सचिव स्वास्थ्य मोहम्मद सुलेमान और अपर मुख्य सचिव गृह राजेश राजौरा उपस्थित थे।

सीएम चौहान ने कहा कि प्रदेश में कोरोना की रोकथाम एवं उपचार सर्वोच्च प्राथमिकता है। सभी ज़िले क्राइसिस मैनेजमेंट ग्रुप की बैठकें कर जिलावार रणनीति बनाएं। हमें हर हालत में कोरोना का संक्रमण रोकना है और जिन जिलों में संक्रमण नहीं है या कम है वहां संक्रमण नहीं फैलने देना है।

एक सप्ताह में दोगुने हुए प्रकरण –

प्रदेश में गत एक सप्ताह में कोरोना के प्रकरण दोगुने हो गए हैं। एक्टिव प्रकरण 11 हजार 168 हैं। कोरोना की गत एक सप्ताह की औसत पॉजिटिविटी दर 6.3 प्रतिशत है, जो देश की साप्ताहिक औसत दर 4.6 से अधिक है।

इंदौर में सबसे ज़्यादा 612 प्रकरण –

कोरोना की जिलेवार समीक्षा में बताया गया कि सर्वाधिक नए प्रकरण इंदौर में 612 हैं। भोपाल में 425, जबलपुर में 156, उज्जैन में 83, रतलाम में 65, ग्वालियर में 63, खरगोन में 60, बैतूल में 54, सागर में 44, बड़वानी में 37, छिंदवाड़ा में 35, नरसिंहपुर 33, शहडोल में 27, बालाघाट में 26 और शाजापुर में 22 नए प्रकरण हैं। शेष ज़िलों में 20 से कम प्रकरण हैं।

अस्पतालों में पूरी तैयारी रखें –

कोरोना के अधिकांश मरीज़ होम आइसोलेशन में हैं। मुख्यमंत्री चौहान ने निर्देश दिए कि सभी जिलों में अस्पतालों में कोरोना के उपचार की श्रेष्ठतम व्यवस्था रखें। आवश्यकता होने पर होम आइसोलेशन से अस्पताल ले जाने की तुरंत व्यवस्था हो।

कोरोना से निबटने की तिहरी रणनीति –

मुख्यमंत्री चौहान ने कहा कि प्रदेश में कोरोना संक्रमण से निपटने के लिए हम तिहरी रणनीति अपना रहे हैं। पहला संक्रमण रोकने के सभी उपाय करना, दूसरा अस्पतालों में कोरोना के उपचार की श्रेष्ठतम व्यवस्था और तीसरा प्रदेश में तेजी से वैक्सीनेशन करवाना, जिससे कोरोना का संकट कम से कम हो सके।

अर्थव्यवस्था को नुकसान पहुंचाए बिना कोरोना नियंत्रण –

सीएम चौहान ने कहा कि पूरा लॉकडाउन अर्थव्यवस्था को ध्वस्त और लोगों को बेरोजगार कर देता है। हमारा पूरा प्रयास रहेगा कि अर्थव्यवस्था को नुकसान भी न पहुंचे और हम कोरोना के संकट से प्रदेश को सुरक्षित बाहर निकाल पाएं। इसके लिए जो भी आवश्यक उपाय होंगे, किए जाएंगे।

“मेरा मास्क-मेरी सुरक्षा” अभियान –

सीएम चौहान ने कहा कि कोरोना संक्रमण से बचने के लिए जन-जागरूकता बहुत आवश्यक है। इसके लिए प्रदेश में “मेरा मास्क-मेरी सुरक्षा” अभियान संचालित किया जा रहा है। इसके अंतर्गत लोगों में मास्क बांटे जा रहे हैं तथा उन्हें मास्क पहनने के लिए जागरूक किया जा रहा है। मास्क पहनने से कोरोना से 90 प्रतिशत सुरक्षा होती है।

घर पर ही मनायें आगामी त्यौहार –

मुख्यमंत्री ने कहा कि कोरोना का संक्रमण न फैले इसके लिए सभी लोग आगामी त्यौहार घर पर ही रहकर पूरी श्रद्धा एवं आस्था के साथ मनाये। जिन जिलों में कोरोना के 20 से अधिक प्रकरण हैं वहां होलिका दहन एवं शबे-बारात प्रतीकात्मक रूप से ही हों। कहीं भी भीड़ नहीं हो, इस बात का विशेष ध्यान रखा जाए।

ये सावधानियां बरतें –

मुख्यमंत्री चौहान ने कहा कि सभी लोग मास्क अनिवार्य रूप से लगाएं। सोशल डिस्टेंसिंग का पालन करें। हाथों को साफ रखें। सैनिटाइज करते रहें तथा निर्धारित कार्यक्रम अनुसार वैक्सीन अवश्य लगवाएं।

मास्क आपको संक्रमित होने से बचाता है, सोशल डिस्टेंसिंग से आप कोरोना के कैरियर नहीं बनते, सैनिटाइजर कोरोना वायरस को मारता है। वैक्सीनेशन से कोरोना के विरुद्ध आपके शरीर में प्रतिरोधक क्षमता उत्पन्न होती है। अतः कोरोना से बचने के लिए इन सभी सावधानियों का आवश्यक रूप से पालन करें।



Related