देशगाँव क्या है?

जैसा कि नाम से ज़ाहिर है, देशगांव भारत के गांव-कस्‍बों का हाल बताने वाला एक मंच है। चूंकि जीवित होने की पहली शर्त है शरीर में दिल का ठीक से काम करना, इसलिए देश के दिल का हाल जानना भी सबसे पहले ज़रूरी है। भारत का दिल है मध्‍य प्रदेश। दिल ठीक, तो बाकी अंग भी ठीक काम करेंगे। इसलिए देशगांव देश के दिल से यानी सीधे मध्‍य प्रदेश से लेकर आता है ख़बर।

ख़बर आम लोगों की, जिनके दम पर इस देश का लोकतंत्र जीवित है। आम लोग यानी किसान, मज़दूर, नौजवान। दलित, आदिवासी और औरतें। बच्‍चे, बूढ़े, दिव्‍यांग। सरकारी कर्मचारी से लेकर आम नौकरीशुदा लोग, शिक्षक, डॉक्‍टर, व्‍यवसायी और वे तमाम काम धंधे करने वाले लोग जिनके बल पर हमारी जिंदगी पटरी पर कायम रहती है।

देशगांव कुछ समान सोच वाले पत्रकारों की एक पहल है। ये पत्रकार मध्‍य प्रदेश के गांव-कस्‍बों से लेकर दिल्‍ली तक फैले हैं। अपने-अपने कोनों में बैठे ये ख़बरनवीस आप तक सही सूचना पहुंचाने का काम करते हैं। इसके अलावा कई वरिष्‍ठ लेखक और स्‍तम्‍भकार हैं जो रोज़मर्रा की ख़बरों के प्रवाह के बीच हमें और आपको वैचारिक खुराक देने में बड़ी भूमिका निभाते हैं।

देशगांव फिलहाल बेहद सीमित संसाधनों में काम कर रहा है। अपने पाठकों से इस उम्‍मीद के साथ कि वे आने वाले समय में इसे अपनी मज़बूत आवाज़ का एक मंच बनाएंगे और साथ मिलकर हम इसे आगे ले जाएंगे।

देशगांव के बारे में किसी और विवरण या जानकारी के लिए इस पते पर संपर्क करें:- deshgaonnews@gmail.com