आदिवासियों का स्वास्थ्य हाल जानने गांव-गांव जा रहे एकता परिषद के कार्यकर्ता


गांव छापर में 22 आदिवासी महिला एवं पुरुषों को, गांव नथोलीपुरा में 17 लोगों को और गांव चक्कपारोद में 11 लोगों को बदन दर्द, खांसी, दस्त व बुखार की आवश्यक दवाएं दी गयीं। 


देश गांव
घर की बात Published On :
ekta-parishad

स्वास्थ्य विभाग और एकता परिषद के संयुक्त प्रयास से किल कोरोना अभियान अंतर्गत तहसील विजयपुर के गांव छापर, नथोलिपुरा एवं चक्कपरोद में शनिवार को स्वास्थ्य एवं जन जागरण शिविर लगाया गया।

इस शिविर में एकता परिषद के प्रदेश समन्वयक (जन वकालत) रामदत्त सिंह तोमर, ब्लॉक समन्वयक अखिलेश तोमर तथा स्वास्थ्य विभाग से डॉ. गिर्राज जांगिड़ एवं लैब टैक्नीशियन विष्णु बैरवा उपस्थित रहे।

गांव छापर में 22 आदिवासी महिला एवं पुरुषों को, गांव नथोलीपुरा में 17 लोगों को और गांव चक्कपारोद में 11 लोगों को बदन दर्द, खांसी, दस्त व बुखार की आवश्यक दवाएं दी गयीं।

इसके साथ ही इन गांवों में कुल 32 लोगों का कोरोना रैपिड एंटीजन टेस्ट किया गया, जिसमें सभी की रिपोर्ट निगेटिव आयी।

इसके साथ ही रामदत्त तोमर के द्वारा सभी गांवों के 50 लोगों को मास्क एवं साबुन वितरण किया गया और समझाइश दी गई कि आपको दिए गए मास्क आप सभी हमेशा अपने मुंह पर लगाये रखें और साबुन से बार-बार हाथ धोते रहें, जिससे कोरोना संक्रमण से बचाव किया जा सकेगा।

देश में कोरोना संक्रमण की गंभीरता आप सभी समझें और शासन की दी गयी गाइडलाइन का भी पालन करें। सरकार द्वारा लिए गए फैसले आपके हित के लिए किये जाते हैं।

कोरोना वैक्सीन से न डरें। कोरोना टीकाकरण कराने से हमारे शरीर को कोरोना से लड़ने की क्षमता मिलती है इसलिए हमें डरना नहीं चाहिए और जो झूठी अफवाह फैल रही है, उन पर विश्वास न करें। सभी लोग वैक्सीन लगवाएं। एकता परिषद आपके साथ है।



Related