सीएम शिवराज ने माना हालात कठिन, हेलिकॉप्टर से पहुंचाए जाएंगे रेमडिसिवर


सीएम ने कहा कि ऑक्सीजन का इंतजाम फिलहाल एक चुनौती है और वे इससे इनकार नहीं करते। उन्होंने कहा कि 13 अप्रैल को 272 मीट्रिक टन ऑक्सीज  न की जरूरत थी, आज 280 मीट्रिक टन उपलब्ध है।


देश गांव
बड़ी बात Updated On :

इंदौर। मुख्यमंत्री शिवराज सिंह ने आख़िरकार मान लिया है कि प्रधेश में फिलहाल हालात विकट हैं। यह कहते हुए उन्होंने अपना दमोह उपचुनाव में प्रचार के लिए बुधवार का दौरा भी रद्द कर दिया है। उनके साथ ज्योतिरादित्य सिंधिया भी दमोह जाने वाले थे।

दवाओं और ऑक्सीजन की कमी को लेकर मुख्यमंत्री ने कहा है कि अगर ज़रूरत पड़ी तो रेमडिसिवर इंजेक्शन हेलिकॉप्टर से जिलों में पहुंचाएंगे। इसके बाद प्रदेश में  शिवराज ने कहा कि अब प्रदेश में मास्क काे लेकर ज्यादा सख्ती की जाएगी।

मुख्यमंत्री ने अब कोरोना को लेकर मंत्रालय में अफसरों की आपात बैठक बुलाई है। इस बैठक में जीवन रक्षक दवाओं, ऑक्सीजन और मरीजों के लिए बेड उपलब्धता को लेकर बात होनी है।

सीएम ने बताया कि वे आज चुनाव प्रचार के लिए दमोह में रोड शो करने वाले थे लेकिन कोरोना का संक्रमण लगातार बढ़ता जा रहा है, संकट विकट है और उन्हें कई व्यवस्थाओं का निर्माण करना है।

उन्होंने कहा कि ऑक्सीजन का इंतजाम फिलहाल एक चुनौती है और वे इससे इनकार नहीं करते। उन्होंने कहा कि 13 अप्रैल को 272 मीट्रिक टन ऑक्सीजन की जरूरत थी, आज 280 मीट्रिक टन उपलब्ध है।

सीएम शिवराज ने कहा कि ऑक्सीजन के इंतजाम करने के लिए केंद्र सरकार सहयोग कर रही है, लेकिन समस्या सभी जगह है। रेल मंत्री पीयूष गोयल से भी चर्चा हुई है, जरूरत पड़ने पर राउरकेला और भिलाई आदि से रेल द्वारा ऑक्सीजन सिलेंडर बुलवाए जा सकें।

उन्होंने कहा कि फिलहाल ऑक्सीजन कंस्ट्रेटर की आठ यूनिट लगा रहे हैं, जिसमें से चार यूनिट का काम पूरा हो गया है। इससे पहले सरकार ने दो हजार ऑक्सीजन कंस्ट्रेटर मशीन खरीदने का निर्णय लिया है।

इसमें से 180 ऑक्सीजन कंस्ट्रेटर मशीनें मिल गई हैं। उज्जैन, शिवपुरी, सिवनी और खंडवा में यह शुरू हो गई हैं। प्रदेश में रेमडिसिवर इंजेक्शन की कमी नहीं है। प्रदेश को इसके 21 हजार डोज मिल चुके हैं और 15 अप्रैल को 12 हजार अतिरिक्त डोज़ मिलेंगे।



Related