दमोह उपचुनाव में पारदर्शिता पर सवाल, जिस गाड़ी में अवैध कैश होने की शिकायत की वह सबके सामने मौके से भागी


संदिग्ध कार की शिकायत करना कांग्रेसियों को पड़ा भारी, पुलिस ने किया गिरफ़्तार, कांग्रेस प्रत्याशी ने पुलिस द्वारा मारपीट के लगाए आरोप



दमोह। उपचुनाव में वोटिंग के एक दिन पहले तक दमोह में गंभीर अनियमितताएं देखने को मिल रहीं हैं। यहां वोट के बदले नोट बांटने की शिकायत सामने आई है हालांकि इसके बाद हुए घटनाक्रम को देखते हुए यह शिकायत सच और मामला बेहद गंभीर नज़र आ रहा है।

सुबह से ही दमोह में बड़ी मात्रा में अवैध शराब पकड़ी गई थी। दिन भर चले घटनाक्रमों में निर्वाचन से जुड़े अधिकारियों और पुलिस की भूमिका संदिग्द बनी रही।

चुनाव आयोग के स्वच्छ और पारदर्शी प्रक्रिया से मतदान के दावों पर फिलहाल दमोह में गंभीर सवाल उठ रहे हैं।

दमोह उपचुनाव में शनिवार को मतदान होना है और इससे एक दिन पहले शुक्रवार को शहर की श्याम नगर कॉलोनी में एक इनोवा गाड़ी क्रमांक MP  CZ 4692 पाई गई।  कांग्रेसियों ने बताया कि इस गाड़ी में बड़ी मात्रा में नकदी रखी हुई थी।

इसकी शिकायत उन्होंने पुलिस से की। इससे पहले यहां कांग्रेस प्रत्याशी और उनके कार्यकर्ताओं के साथ बड़ी संख्या में मीडियाकर्मी मौजूद थे। पुलिस के पहुंचने पर कांग्रेसियों ने कार्रवाई की मांग की।

पुलिस लगातार कार्रवाई में देरी कर रही थी। जिसके बाद कांग्रेसियों ने हंगामा शुरु कर दिया। इस बीच पुलिस ने कांग्रेस के पांच कार्यकर्ताओं को हिरासत में ले लिया।

इस दौरान उनके साथ मार-पीट भी की गई। यह सब कैमरे के सामने हो रहा था। कांग्रेसी नेता पुलिस से कार्रवाई करने के लिए कह रहे थे लेकिन हैरान थे कि पुलिस उल्टा उन्हीं के उपर कार्रवाई कर रही है।

कांग्रेस प्रत्याशी अजय टंडन के मुताबिक इस बीच उनके साथ भी पुलिस ने मारपीट की और उनके हाथ पर लाठी से वार किया। यह हंगामा करीब तीन घंटे तक चलता रहा।

इस बीच गाड़ी के ड्राईवर से पूछताछ की गई और उसका नाम पूछा गया। ड्राईवर ने क्या बताया इसकी कोई जानकारी पुलिस ने शिकायतकर्ताओं को नहीं दी।

इसके बाद पुलिस कांग्रेसियों को धारा 144 के उल्लंघन में गिरफ्तार करने की धमकी दी गई। स्थानीय पुलिस अधिकारी का रवैया यहां बेहद सख्त नज़र आ रहा था। इस बीच कांग्रेसी भी उनसे अपनी नाराज़गी जता रहे थे।

इस बीच एक ड्राईवर संदिग्ध इनोवा वाहन में बैठा और पुलिस और कांग्रेसियों के सामने तेज़ी से वाहन ले भागा। इस दौरान एक पुलिसकर्मी वाहन के लिए रास्ता बना रहा था।

जिस इनोवा वाहन में कैश होने की शिकायत कांग्रेस कर रही है उस पर विधानसभा की पार्किंग के पास लगे हुए हैं। ज़ाहिर है यह गाड़ी किसी ऐसे व्यक्ति की है जो विधानसभा में आता-जाता है। कांग्रेसियों ने बताया कि गाड़ी किसी राजेंद्र सिंह सैंगर के नाम से रजिस्टर्ड है।

इस पर सवाल यह भी उठता है कि अगर गाड़ी में कुछ नहीं था तो उसे इस तरह से भगाकर ले जाने की क्या ज़रुरत थी और पुलिस का रवैया भी सवालों में है। कांग्रेसियों के मुताबिक दमोह उपचुनावों में भाजपा द्वारा जमकर अनियमितता की जा रही है और मतदाताओं को वोट खरीदने के लिए लालच दिया जा रहा है। हालांकि जिस गाड़ी की शिकायत कांग्रेसी कर रहे थे उसमें रुपये होने की कोई तस्वीर कांग्रेसियों ने नहीं दी है।

कांग्रेसियों के मुताबिक अगर गाड़ी में बड़ी नकदी होने की शिकायत हुई थी तो मौके पर पुलिस को पहुंचकर चैकिंग करनी चाहिए थी और निर्वाचन अधिकारियों को मामला स्पष्ट करना चाहिए था लेकिन ऐसा नहीं हुआ।

कांग्रेसियों ने यह भी बताया कि पुलिस ने अपने अधिकार के परे जाकर प्रत्याशी पर केवल शिकायत करने पर ही हमला कर दिया और शिकायतक करने वाले कार्यकर्ताओं को गिरफ्तार किया।

इस बारे में कांग्रेसी मीडिया के सामने ही प्रशासनिक अधिकारियों से बात करने के लिए फोन लगाते रहे लेकिन उनकी ओर से जवाब नहीं दिया गया। इस दौरान कांग्रेस प्रत्याशी अजय टंडन की तबियत भी बिगड़ गई। यहां मौके पर ही डॉक्टरों ने उनका इलाज बीपी लिया। टंडन को सांस फूलने और बेचैनी की शिकायत थी।

कांग्रेसियों के इन आरोपों पर पुलिस ने कहा कि पुलिस ने गाड़ी की जांच की थी और कांग्रेसियों ने भी गाड़ी देखी थी। उसमें कुछ नहीं था ऐसे में गाड़ी के इस तरह भागने की क्या जरूरत थी।

इस मामले में भारतीय जनता पार्टी के प्रदेश अध्यक्ष वीडी शर्मा के मुताबिक कांग्रेस चुनाव का अंजाम जानती है इसलिए इस तरह के अनर्गल आरोप लगा रहे हैं।

संदिग्ध वाहन की शिकायत के मामले में शिकायत और विरोध करने वाले जिन कांग्रेसियों पर पुलिस ने गिरफ्तार किया है। इनमें कांग्रेस अध्यक्ष यशपाल ठाकुर, नगर पालिका नेता प्रतिपक्ष राज किशोर सिंह चौहान( राशू ),  पार्षद राजा रौतेला पार्षद, अरुण टंडन, पार्थ टंडन, दिनेश रैकवार आदि हैं।

वहीं प्रत्याशी अजय टंडन पर महिला अधिकारी से अभद्रता का आरोप लगाया जा रहा है। इस पूरे मामले में कांग्रेस प्रत्याशी अजय टंडन ने भी अपना बयान जारी किया है।

इससे पहले शुक्रवार सुबह ही दमोह में अवैध शराब भी पकड़ी गई थी। इस बारे में भी कांग्रेसियों ने शिकायत की थी। वहीं भाजपा प्रत्याशी ने एक मोहल्ले में संत रविदास का मंदिर बनाने के लिए इक्कीस हज़ार रुपये नकद भी दिये थे। इस पर कांग्रेसी प्रत्याशी ने विरोध जताया था लेकिन कोई ठोस कार्रवाई नहीं हुई।

 



Related






ताज़ा खबरें