भारी बर्फबारी में भारत जोड़ो यात्रा की समापन रैली, राहुल और प्रियंका गांधी ने की बर्फ में मस्ती


बर्फबारी को लेकर कांग्रेसी नेताओं में चिंता भी, कई यात्राएं रद्द हुईं


DeshGaon
बड़ी बात Published On :

भोपाल। कन्याकुमारी से कश्मीर तक देश की चार हजार किमी की दूरी तय करने के बाद कांग्रेस पार्टी श्रीनगर में आज “भारत जोड़ो यात्रा” का समापन समारोह को आयोजित हो रहा है। शेर-ए-कश्मीर क्रिकेट स्टेडियम में इसके लिए एक बड़ी रैली आयोजित की जा रही है। इस रैली में कांग्रेस नेताओं के अलावा अन्य दलों के नेता भी शामिल हो रहे हैं। यह रैली भारी बर्फबारी के बीच आयोजित हो रही है।

हालांकि, बर्फबारी के कारण श्रीनगर-जम्मू राष्ट्रीय राजमार्ग बाधित हैं। वहीं  हवाई यातायात में भी परेशानी हो रही है। हालांकि कश्मीर में बर्फबारी का नज़ारा बेहद खूबसूरत है लेकिन इस मौमस के कारण यहां का जनजीवन प्रभावित हुआ है और आवाजाही प्रभावित हो रही है।  श्रीनगर के हवाईअड्डे के निदेशक कुलदीप सिंह ऋषि ने ट्विटर पर कहा कि कम दृश्यता और लगातार बर्फबारी से श्रीनगर जाने वाली सभी उड़ानों में देर हो रही है। विस्तारा एयरलाइंस ने दिल्ली से श्रीनगर जाने वाली अपनी दोनों उड़ानें एक दिन के लिए रद्द कर दी हैं। कांग्रेस पार्टी के नेता भी मौसम के इस मिजाज़ से मायूस दिखे। दिग्विजय सिंह ने इसे लेकर ट्वीट किया।

समापन समारोह में बर्फबारी के चलते आए व्यवधान से कांग्रेसी नेता चिंतित हैं लेकिन इस बीच भी वे राहुल गांधी और उनकी बहन प्रियंका गांधी के साथ मिलकर इस यात्रा के पूरे होने को लेकर खुश हैं। राहुल और प्रियंका ने बर्फ में खूब मस्ती की।

भारत जोड़ो यात्रा के दौरान राहुल गांधी का एक बेहद मंझा हुआ रुप सामने आया है उन्होंने भाजपा आरएसएस पर तेज़ हमले किये हैं और किसी भी आलोचक को अपने उपर हमले का कोई मौका नहीं दिया है। इस दौरान राहुल ने अब तक 13 बार प्रेस को संबोधित किया है। श्रीनगर में अपनी 13वीं प्रेस वार्ता को संबोधित करते हुए राहुल ने कहा कि एक ओर कांग्रेस का नज़रिया है और दूसरी तरफ भाजपा और आरएसएस का अहंकार एवं नफरत का नजरिया है। उन्होंने विपक्ष की एकता पर उठाए जा रहे सवालों पर पत्रकारों से कहा कि ‘आप किस आधार पर कह रहे हैं कि विपक्ष बिखर चुका है, विपक्षी एकता बातचीत और एक दृष्टिकोण के बाद आती है, यह कहना सही नहीं है कि विपक्ष बिखरा हुआ है. मतभेद हैं… लेकिन विपक्ष साथ खड़ा होगा, लड़ेगा।’ उनका कहना था, ‘यह विचारधारा की लड़ाई है। एक तरह भाजपा और आरएसएस की विचारधारा है, दूसरी तरफ गैर भाजपा और गैर आरएसएस ताकतें हैं।’

उल्लेखनीय है कि राहुल की इस भारत जोड़ो यात्रा को देशभर में जबरदस्त सर्मथन मिला है और इसके प्रभाव से कांग्रेस को मजबूती मिली है। इस यात्रा का मकसद विपक्ष को जोड़ना भी था। समापन समारोह के लिए कांग्रेस ने 20 से अधिक विपक्षी दलों को निमंत्रण दिया है। कुछ राजनीतिक दल जहां इसके लिए बहुत उत्साहित नहीं दिखाई दिए तो वहीं नेशनल कांफ्रेस, पीपुल्स डेमोक्रेटिक पार्टी, मार्क्सवादी कम्युनिस्ट पार्टी, राष्ट्रवादी कांग्रेस पार्टी, शिवसेना, द्रमुक और कुछ अन्य दलों के नेताओं अथवा प्रतिनिधियों के शामिल होने की संभावना है।



Related