किसान महंगी खाद खरीदने को मजबूर, 1250 रुपये में मिल रही 1100 की डीएपी


किसानों ने बताया कि सोसायटी के माध्यम से किसानों को 1100 रुपये में डीएपी खाद व 267 रुपये में यूरिया खाद की एक बोरी उपलब्ध कराई जाती है। बाजार में यही डीएपी 1250 रुपये व यूरिया 379 रुपये में मिल रही है।


देश गांव
उनकी बात Published On :
farmers problem
मजबूरी में बिना बिल के किसान खाद-बीज खरीदने के लिए मजबूर हैं


जबलपुर। पाटन तहसील में मटर की खेती करने वाले किसान इन दिनों परेशान हैं और उनकी परेशानी का कारण है सोसायटी से डीएपी व यूरिया का नहीं मिल पाना। किसानों के मुताबिक, इसके कारण उन्हें बाजार से मंहगे दामों पर डीएपी और यूरिया खरीदनी पड़ रही है।

चपोद निवासी कई किसानों ने अपनी परेशानी जाहिर करते हुए कहा कि जिला सहकारी बैंक शाखा पाटन की सभी सोसायटी में पर्याप्त मात्रा में डीएपी और यूरिया उपलब्ध है, लेकिन इसके बाद भी किसानों को यह नहीं मिल पा रहा है।

किसानों ने बताया कि सोसायटी के माध्यम से किसानों को 1100 रुपये में डीएपी खाद व 267 रुपये में यूरिया खाद की एक बोरी उपलब्ध कराई जाती है। बाजार में यही डीएपी 1250 रुपये व यूरिया 379 रुपये में मिल रही है।

वहीं, हददुआ निवासी कई किसानों ने शिकायत की है कि उनके नए किसान क्रेडिट कार्ड (केसीसी) भी नहीं बनाए जा रहे हैं। बिना केसीसी वालों को नगद में खाद नहीं दी जा रही है। जिन किसानों के पास केसीसी हैं, उन्हें ही खाद दी जा रही है।

किसानों का आरोप है कि सोसायटी से प्रति हेक्टेयर दो बोरी डएपी और चार बोरी यूरिया दी जा रही है जबकि किसानों को प्रति हेक्टेयर छह बोरी डीएपी और 20 बोरी यूरिया चाहिए होता है। इस कारण भी किसान बाजार से महंगे दामों पर खाद-यूरिया खरीदने के लिए मजबूर हैं।



Related