कोरोना काल में सात समूह की एकल शराब दुकानों का हुआ नवीनीकरण, तीन समूह शेष


– ई-टेंडर के लिए अंतिम दिनांक 25 मई घोषित।
– कोरोना काल के संकट के चलते विभाग का राजस्व पर फोकस।
– 10 माह के लिए दी जाएगी इस मर्तबा शराब दुकानें।


आशीष यादव आशीष यादव
धार Published On :
dhar-news

धार। प्रदेश के सबसे बड़ा राजस्व विभाग आबकारी में इन दिनों दुकानों की नीलामी प्रक्रिया जारी है। कोरोना काल के संकट के साथ उभरते हुए प्रदेश में इस मर्तबा राजस्व को लेकर विशेष फोकस रखा जा रहा है।

इसके फलस्वरुप प्रदेश में इस मर्तबा 12 माह के लिए दुकानों की नीलामी करने के बजाय शेष 10 माह के लिए ठेकेदारों को दुकानें आवंटित करने का निर्णय लिया गया है।

मप्र वाणिज्य कर विभाग के आदेश के अनुसार वर्ष 2020-21 में रहे ठेकेदारों को 10 प्रतिशत मूल्य की वृद्धि के हिसाब से दुकानें नवीनीकरण के तहत दी जाए।

ऐसे में 12 माह की दुकान की कीमत को जोड़कर शेष 10 माह के हिसाब से कीमत तय कर नवीनीकरण किया जाना था, जिसमें धार जिले की लगभग 70 प्रतिशत दुकानों का नवीनीकरण धार आबकारी विभाग के द्वारा संपन्न हो गया है।

नवीनीकरण की प्रक्रिया में धार जिले का काम बेहतर रहा है तथा एक ही फेज में जिले की 10 में से 7 समूह पूर्व में रहे ठेकेदारों द्वारा विभागीय प्रक्रिया के बाद दुकानें ले ली गई।
इन सभी को 1 जून 2021 से 31 मार्च 2022 तक के लिए दुकानें नई नीति के तहत आवंटित की गई हैं।

धार सहित दो अन्य समूह पर हो रहे टेंडर –

विभाग की मंशा के अनुरुप जिले में सात समूह पर नवीनीकरण का काम पूरा होने के बाद अब तीन समूह शेष रह गए हैं, जिसके लिए विभाग ने शुक्रवार से ई-टेंडर प्रक्रिया शुरू कर दी है।

सहायक आबकारी आयुक्त यशवंत धनोरे ने टेंडर के लिए की जा रही कार्रवाई के बारे में जानकारी देते हुए बताया कि

10 में मात्र तीन समूह पर इस मर्तबा ई-टेंडर प्रक्रिया की जा रही है। यह अपने आप में एक बड़ी उपलब्धि है कि सरकार के निर्देशों का पालन जिले में बेहतर तरीके से किया जा रहा है।

शुक्रवार 21 मई से शुरू हुई टेंडर डालने का काम 25 मई दोपहर 1 बजे तक जारी रहेगा। इसके बाद 25 मई को ही 2 बजे बाद ई-टेंडर हेतु ऑनलाइन टेंडर प्रपत्र खोले जाएंगे तथा जिला समिति द्वारा निराकरण करने के पश्चात टेंडर की प्रक्रिया पूर्ण की जाएगी।

यशवंत धनोरे ने बताया कि

नवीनीकरण द्वारा निष्पादन में शेष रहे तीन एकल समूह क्रमश: धार, धामनोद व मनावर हैं, जिसमें 14 देशी मदिरा व 6 विदेशी मदिरा की दुकानें ई-टेंडर के माध्यम से एनआईसी के पोर्टल पर ऑनलाइन माध्यम से उपलब्ध हैं तथा आबकारी के फुटकर ठेकेदार इस प्रक्रिया में भाग ले सकेंगे।