फरसपुरा मार्ग पर बनी पुलिया जर्जर, दो व चार पहिया निकलना भी बंद

Kumar Manish
घर की बात Updated On :
karam river pulia

गुजरी। कारम नदी फरसपुरा मार्ग पर बनी पुलिया के पूरी तरह से जर्जर होने के बाद वहां से गुजरने वाले लोगों को हादसों का अंदेशा बना रहता है। फरसपुरा मार्ग पर बनी पुलिया से लगभग एक दर्जन से अधिक गांवों के लोगों का आना-जाना होता है, लेकिन उसके बाद भी जिम्मेदार अधिकारियों द्वारा क्षतिग्रस्त पुलिया का मेंटेनेंस कार्य भी नहीं कराया गया है। पुलिया पर बड़े-बड़े गड्ढे होने से दो व चार पहिया निकलना भी बंद हो गए हैं।

ग्रामीण कई बार कर चुके हैं निर्माण की मांग
ग्रामीणों को काफी दिक्कतों का सामना करना पड़ रहा है। ग्रामीण कई बार पुलिया को बनाए जाने की मांग कर चुके हैं। उल्लेखनीय है कि फरसपुरा, सिमराली, जंहागिरपुरा, मसीदपुरा, उतावली, भारुड़पुरा, चोकी, आदि गांव सहित गुजरी के आसपास क्षेत्र के लोग धार जाने के लिए कारम नदी पर बनी पुलिया से आना-जाना करते हैं। सालों पहले बनवाई गई पुलिया पिछले करीब पांच सालों से जर्जर हालत में पड़ी है। स्थिति ये है कि पुलिया के ऊपर बड़े-बड़े गड्ढे हो चुके हैं। दो व चार पहिया वाहनों का निकलना भी बंद हो चुका है।

रैलिंग नहीं होने के कारण बह चुके हैं कई बाइक
पुलिया पर रैलिंग नहीं होने से कई बार बारिश में पुलिया पर पानी होने के कारण बाइक के बहने की घटना भी हो चुकी है। पुलिया पर आवागमन बंद होने से ग्रामीणों को 4 किलोमीटर घूमकर अपने गांव जाना पड़ रहा है। पैदल निकलने में रात के समय खतरा ज्यादा बढ़ जाता है क्योंकि रोशनी नहीं होने के कारण अंधेरा रहता है। बताया जाता है कि इस पुलिया के जर्जर होने के कारण रात के समय कई लोग हादसे का शिकार भी हो चुके हैं। लेकिन, इसके बावजूद भी जिम्मेदार अधिकारियों द्वारा ना ही पुलिया कि रिपेयरिंग कि जा रही है और ना ही पुलिया का नया निर्माण कराया जा रहा है।

मूरम-पत्थर डाल भर दिए जाते हैं गड्ढे
ग्रामीणों को काफी दिक्कतों का सामना करना पड़ रहा है। शिकायत के बाद ग्राम पंचायत द्वारा मूरम व पत्थर डालकर गड्ढों को भर दिया जाता है। लेकिन, हर साल बारिश के बाद फिर वही हालत हो जाती है। पंचायत द्वारा नया निर्माण नहीं करवाया जा रहा है।



Related