इंदौर: 309 नए मरीज आए सामने, कलेक्टर ने कहा- मास्क को लेकर बरती जाएगी सख्ती


गुरुवार रात जारी की गई कोरोना जांच रिपोर्ट में कोरोना संक्रमण के 309 नये पॉजिटिव केस सामने आए हैं। कोरोना से संक्रमित कुल 1960 लोगो का इलाज जारी है और कोरोना की दूसरी लहर में 15 लोगों की जान जा चुकी है, जिसके बाद मरने वालों की संख्या 944 तक जा पहुंची है।


देश गांव
इन्दौर Updated On :
manish-singh-on-marriage-ceremony

इंदौर। मध्यप्रदेश के इंदौर में कोरोना संक्रमण फिर से बढ़ रहा है। गुरुवार रात जारी की गई कोरोना जांच रिपोर्ट में कोरोना संक्रमण के 309 नये पॉजिटिव केस सामने आए हैं।

रिपोर्ट के मुताबिक, कोरोना से संक्रमित कुल 1960 लोगो का इलाज जारी है और कोरोना की दूसरी लहर में 15 लोगों की जान जा चुकी है, जिसके बाद मरने वालों की संख्या 944 तक जा पहुंची है।

इन हैरान करने वाले आंकड़ों के बाद अब प्रशासन भी शहरभर में सख्ती कर रहा है, खास तौर पर मास्क नहीं पहनने वालों के खिलाफ। कोरोना की भयावहता को देखते हुए इंदौर कलेक्टर मनीष सिंह ने भी तमाम दिशा-निर्देश देकर व्यवस्थाओं में सुधार के लिए कदम उठाएं हैं।

मीडिया से चर्चा में मनीष सिंह ने कहा कि सबसे महत्वपूर्ण इस समय वैक्सीनेशन है और 45 और 60 से ज्यादा उम्र के लोगों को निश्चित नियमों का पालन कर वैक्सीन लगवानी चाहिए।

शहर में 70 प्राइवेट अस्पताल और 70 सरकारी अस्पतालों में वैक्सीनेशन सेंटर हैं। वहीं ग्रामीण इलाकों में शुक्रवार से 70 सेंटर बढ़ाये जा रहे हैं। उन्होंने मास्क को महत्वपूर्ण बताते हुए कहा कि बाकि चीजें चलती रहेंगी, लेकिन वैक्सीनेशन के बाद भी मास्क पहनना जरूरी है। इसके अलावा सारे काम प्रशासन कराएगा।

उन्होंने लोगों से अपील की है कि लोग दायरे में आने वाले लोगों को वैक्सिनेट करवायें ताकि दो माह बाद वो सुरक्षा के दायरे में आ जायें।

इंदौर कलेक्टर सिंह ने बताया कि इंदौर में अन्य राज्यों की तर्ज पर कोरोना बढ़ गया है ये बात सही है लेकिन ये कर्फ्यू वाली बात सही नहीं है बल्कि रात 10 बजे बाद सभी तरह के व्यवसायिक संस्थान को बंद करने के निर्देश दिए गए हैं और केमिस्ट, अस्पताल, किराना और दूध की दुकानों की परमिशन है।

वहीं अनावश्यक आने-जाने पर रोका टोकी पुलिस करती है और ऐसे मूवमेंट नहीं हो सकेंगे। सांस्कृतिक, सामाजिक, धार्मिक, राजनीतिक कार्यक्रम नहीं हो सकेंगे।

उन्होंने बताया कि फार्म हाउस की पार्टी, होटल्स और अन्य स्थानों पर होने वाली पार्टी प्रतिबंधित रहेगी। जहां मास्क और सोशल डिस्टेसिंग का पालन नहीं किया जा रहा है, उनको सील करने की कार्रवाई भी की जा रही है।

इन सब प्रतिबंधों से आने वाले 15 दिनों में फर्क देखा जाएगा। हालांकि उन्होंने ये भी साफ किया कि किसी भी प्रकार की आर्थिक और औद्योगिक गतिविधियों का प्रभावित करने का आदेश नहीं है। ट्रांसपोर्ट से जुड़ी गतिविधियों को प्रतिबंध से हटाया जाएगा।

मास्क को लेकर सख्ती बरतने की बात भी कलेक्टर ने कही है और कहा कि मास्क को लेकर लापरवाही करने वालों को सीधे जेल भेजा जाएगा।

उन्होंने बताया कि महाराष्ट्र से आने जाने वाली बसों को रोक दिया गया है। फ्लाइट से आने वालों लोगों की मॉनिटरिंग की जा रही है। धार्मिक स्थलों को लेकर कलेक्टर मनीष सिंह ने कहा कि कहीं भी ज्यादा भीड़ होती है तो उन स्थानों को अस्थायी रूप से बंद किया जा सकता है।