इंदौरः ठंडक बढ़ने से खिले अन्नदाता के चेहरे, फसलों को होगा फायदा


जिलेभर के अधिकांश हिस्सों में हुई बारिश फसलों के लिए अमृत है। रुक-रुककर हुई बारिश से किसानों के चेहरे खिल गए हैं। इसका सबसे ज्यादा फायदा गेहूं व चने की फसल को होगा।


देश गांव
इन्दौर Published On :
indore-mawtha

– फसलों पर अमृत की बारिश, बढ़ी ठंडक सबसे ज्यादा फायदा गेहूं व चने की फसल को होगा।

इंदौर। जिलेभर के अधिकांश हिस्सों में हुई बारिश फसलों के लिए अमृत है। रुक-रुककर हुई बारिश से किसानों के चेहरे खिल गए हैं। इसका सबसे ज्यादा फायदा गेहूं व चने की फसल को होगा।

वहीं मटर की फसल पकने की कगार पर है। लिहाजा, उसे कोई फर्क नहीं पडऩे वाला है। किसान लंबे समय से मावठे की बारिश का इंतजार कर रहे थे।

रिमझिम फुहार शुरू हुई, तो किसानों के चेहरे पर मुस्कान लौट आई। कृषि विभाग की मानें तो मवाठा की बारिश से दलहन की फसलों को काफी लाभ होने वाला है।

इन क्षेत्रों में मावठे की बारिश – 

जिला मुख्यालय के कई ग्रमीण इलाकों में बूंदाबांदी हुई। किसानों की मानें तो मावठे की बारिश फसलों के लिए अमृत की तरह है। इसका इंतजार कई दिनों से किसान कर रहे थे।

ठंड बढ़ी और फसलों पर नजर आने लगे मोती – 

बूंदाबांदी होने और दिनभर आसमान में बादल छाए रहने के कारण मौसम में ठंडक घुलने के साथ ही गलन व ठिठुरन बढ़ गई है। गुरुवार को भी सुबह से ही आसमान में बादल छाए रहने के कारण मौसम में ठंडक रही।

बारिश होने से मौसम में ठंड हो गई थी। मावठे की बारिश और तेज सर्दी का इंतजार कर रहे किसानों की मौसम बदलने के साथ ही आस जाग गई है।

अभी तक मौसम में लगातार गर्मी बने रहने और तेज सर्दी नहीं पड़ने की वजह से फसलें पूरी तरह से बढ़ नहीं पा रही थीं। कृषि विभाग के अनुसार वर्तमान बारिश फसलों के लिहाज से बेहद उम्दा है।

इस बारिश से गेहूं की फसलों में तेजी से बढ़त होगी। इस साल देरी से फसलों की बोवनी हुई है। इससे गेहूं और चने दोनों ही फसलों में लाभ की स्थिति है।

इस बारिश से दलहन फसलों को लाभ – 

इस बारिश से दलहन की गेहूं, चना, मटर, लहसुन आदि फसलों को लाभ होने वाला है। कृषि विभाग की मानें तो मावठे की बारिश होने से फायदा है। इस बारिश का इंतजार कई दिनों से किसान कर रहे थे। हालांकि जो बारिश हुई है उससे गेहूं, चना, अन्य की फसलों को लाभ मिलेगा। वही किसानों की माने तो मावठे से गेहूं व अन्य फसलों फायदा होगा।

गुरुवार व शुक्रवार की दरमियानी रात रुक-रुककर हुई बारिश निश्चित तौर पर खेती के लिए लाभदायक है। जिन किसानों ने गेहूं, चना व अन्य फसलें बोईं हैं, उनको लाभ मिलेगा। पैदावार अच्छी होगी।

– आनंद ठाकुर, किसान (तिल्लोर)



Related