VIDEO: खजराना गणेश मंदिर में नए वर्ष को लेकर जिला प्रशासन व मंदिर प्रबंधन कर रहा खास इंतजाम


इंदौर के प्रसिद्ध खजराना गणेश मंदिर में साल 2021 के पहले दिन भगवान गणेश को 11 हजार लड्डुओं का भोग लगाया जाएगा। साथ ही साथ नए वर्ष को लेकर जिला प्रशासन और मंदिर प्रबंधन द्वारा खास इंतजाम किए जा रहे हैं। इसके लिए तैयारियां भी शुरू कर दी गईं हैं।


देश गांव
इन्दौर Updated On :
khajrana-ganesh-mandir

विनय यादव, इंदौर। इंदौर के प्रसिद्ध खजराना गणेश मंदिर में साल 2021 के पहले दिन भगवान गणेश को 11 हजार लड्डुओं का भोग लगाया जाएगा। साथ ही साथ नए वर्ष को लेकर जिला प्रशासन और मंदिर प्रबंधन द्वारा खास इंतजाम किए जा रहे हैं। इसके लिए तैयारियां भी शुरू कर दी गईं हैं।

हालांकि नए साल के जश्न के दौरान मंदिर आने वाले श्रद्धालुओं को जिला प्रशासन द्वारा जारी गाइडलाइन के नियमों पालन कराया जाएगा। इस बार कोरोना वायरस संक्रमण के कारण भक्तों को सावधानी बरतना जरूरी होगा। हर वर्ष की तुलना में इस वर्ष भी भक्तों के लिए सुरक्षा व्यवस्था के कड़े इंतजाम पुलिस प्रशासन द्वारा किए जाएंगे।

कोरोना नियमों के तहत इस बार भक्तों को भगवान गणेश के चार स्टेप में दर्शन होंगे। नए वर्ष के पहले दिन यानी एक जनवरी को खजराना गणेश को 11 हजार लड्डुओं का भोग लगाया जाएगा। वहीं, तिल चतुर्थी पर एक लाख लड्डुओं का भोग लगेगा।

31 दिसंबर और एक जनवरी को बड़ी संख्या में भक्त गजानन के दर्शन को आते हैं, ऐसे में इस बार भी बड़ी संख्या में भक्तों के यहां पहुंचने की संभावना है। इसे देखते हुए मंदिर प्रबंध समिति द्वारा व्यवस्थाओं को लेकर तैयारियां शुरू हो गई हैं।

मंदिर प्रबंध समिति की बैठक में कलेक्टर मनीष सिंह, निगम आयुक्त प्रतिभा पाल, यातायात पुलिस अधिकारी और पुजारियों की मौजूदगी में नए साल के पहले दिन एक जनवरी और तिल चतुर्थी पर मंदिर में दर्शनार्थियों की भीड़ नहीं होने को लेकर रणनीति बनाई गई।

हर बार की तरह इस बार भी भक्तों को पंक्तियों में दर्शन करने की व्यवस्था की जाएगी। खजराना स्थित गणेश मंदिर में 31 दिसंबर और एक जनवरी को आने वाले भक्तों को लेकर रूपरेखा तैयार की गई है।

पुजारी सतपाल महाराज ने बताया कि भक्तों को कालिका माता मंदिर की ओर से प्रवेश दिया जाएगा और उनकी निकासी गणेशपुरी कॉलोनी की ओर से बाहर जाने का रास्ता रहेगा।

यातायात प्रभावित ना हो इसको देखते हुए इस मार्ग को वन-वे किया जाएगा। फिलहाल मंदिर प्रशासन के पास 28 गार्ड हैं, आगे आने वाले नए वर्ष के पहले 25 गार्ड और बढ़ाए जाएंगे। इस दौरान सभी के लिए गर्भगृह में प्रवेश निषेध रहेगा।



Related