कोरोनाः इंदौर में कोई लॉकडाउन नहीं लेकिन नियम न मानने पर होगी कड़ी कार्रवाई


इंदौरे जिले में संक्रमितों की संख्या सबसे अधिक है इसे देखते हुए यहां शनिवार और रविवार को लॉकडाउन होने की अफ़वाह उड़ाई जा रही थी जिसके बाद कलेक्टर मनीष सिंह ने इस बारे में स्थिति स्पष्ट की है।


देश गांव
इन्दौर Updated On :
राजवाड़ा पैलेस, इंदौर साभार- ईटी


इंदौर। कोरोना वायरस से पीड़ित लोगों की लगातार बढ़ती संख्या के बाद लॉकडाउन लगाने की बात भी कही जा रही थी लेकिन फिलहाल ये खबरें सही नहीं है। इंदौरे जिले में संक्रमितों की संख्या सबसे अधिक है इसे देखते हुए यहां शनिवार और रविवार को लॉकडाउन होने की अफ़वाह उड़ाई जा रही थी जिसके बाद कलेक्टर मनीष सिंह ने इस बारे में स्थिति स्पष्ट की है। उन्होंने कहा है कि प्रशासन का ऐसा कोई प्रस्ताव नहीं है। इंदौर शहर में किसी तरह का लॉक डाउन नहीं लगाया जा रहा है। कलेक्टर कार्यालय ने अपने ट्विटर अकाउंट पर भी इसके बारे में जानकारी दी है।

इंदौर कमिश्नर डॉ. पवन शर्मा ने भी संभाग के सभी कलेक्टरों को कोरोना संक्रमण को रोकने के लिए कदम उठाने के लिए कहा है। उन्होंने मास्क पहनने और सोशल डिस्टेंसिंग जैसे नियमों का पूरी तरह पालन करवाने के लिए सख्ती बरतने के लिए भी कहा है। ऐसे में इंदौर संभाग के अंर्तगत आने वाले सभी जिलों में अब मास्क न पहनने पर लोगों को पुलिस और प्रशासन की कार्रवाई का सामना भी करना पड़ सकता है।

इससे पहले मंगलवार को इंदौर कलेक्टर मनीष सिंह ने बढ़ते कोरोना संक्रमण को लेकर अधिकारियों के साथ बैठक की। इस बैठक में अधिकारियों को स्पष्ट निर्देश दिए गए हैं कि वे सुबह छह बजे से रात आठ बजे तक ही बाजारों और इसके अंदर सभी व्यापारिक प्रतिष्ठानो को संचालन सुनिश्चित करें। इसके बाद जहां भी आयोजन किए जाएंगे उन पर कार्रवाई की जाए। इस बैठक में इंदौर जिले के स्वास्थ्य विभाग के अधिकारियों, प्रशासनिक अधिकारियों के साथ महू छावनी क्षेत्र के सैन्य प्रशासन के अधिकारी भी शामिल हुए थे।

 

इंदौर कलेक्टर ने पहले ही विवाह समारोहों पर कुछ पाबंदियां लागू कर दी हैं। जिनके बाद शादियों में  अधिकतम 250 और बारात में 50 लोगों से अधिक शामिल नहीं हो सकेंगे। इसके साथ ही यह आयोजन दस बजे तक ही हो सकेंगे।