महाराष्ट्र से आने-जाने वाली बसों पर प्रतिबंध 30 अप्रैल तक बढ़ा, स्कूल भी नहीं खुलेंगे


सीएम ने बुधवार को कहा कि कोरोना की दूसरी लहर को कंट्रोल करना चुनौती बनता जा रहा है। जिस तरह से संक्रमण बढ़ रहा है, उसे देखते हुए स्कूल फिलहाल नहीं खोले जाएंगे। रंगपंचमी पर सार्वजनिक आयोजन नहीं होगा।


देश गांव
घर की बात Published On :
cm-shivraj-on-corona

भोपाल। मध्यप्रदेश सरकार ने महाराष्ट्र से आने-जाने वाली बसों पर लगा प्रतिबंध एक माह यानी 30 अप्रैल तक बढ़ा दिया है। मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने बुधवार को सभी कमिश्नर, कलेक्टर, आईजी, एसपी, सीएमएचओ, जिला पंचायत के सीईओ की वर्चुअल मीटिंग कर प्रदेश में बढ़ रहे कोरोना लहर को लेकर चर्चा की।

मुख्यमंत्री ने बैठक में इंदौर, उज्जैन कलेक्टर को फ्री हैंड देते हुए कहा कि नियम न मानने वालों से सख्ती से निपटना होगा। सीएम ने कहा फिलहाल लॉकडाउन नहीं होगा।

सीएम ने बुधवार को कहा कि कोरोना की दूसरी लहर को कंट्रोल करना चुनौती बनता जा रहा है। जिस तरह से संक्रमण बढ़ रहा है, उसे देखते हुए स्कूल फिलहाल नहीं खोले जाएंगे। रंगपंचमी पर सार्वजनिक आयोजन नहीं होगा।

उन्होंने कहा कि अस्पताल में बेड की कमी ना रहे, यह हमारे सामने चैलेंज है। मैंने कल भी बैठक में सभी अफसरों से इसके लिए रिव्यू करने के निर्देश दिए थे, हम कितने बिस्तरों की व्यवस्था कर सकते हैं। इसके लिए जरूरी मैनपावर, जरूरी व्यवस्थाएं वह खड़ी करना है उसकी तैयारी की भी समीक्षा की जाएगी।

मुख्यमंत्री ने कहा कि संक्रमित के निकटतम लोगों की पहचान संदिग्ध होने पर उन्हें आइसोलेशन व्यवस्था करना अब अनिवार्य किया जा रहा है। अगर किसी का घर छोटा है, तो उसमें आइसोलेट करने से फायदा नहीं, उसके लिए व्यवस्था बनाने पर हम विचार करेंगे।

जहां ज्यादा मामले हैं, वहां टेस्टिंग भी बढ़ाई जाएगी। इसके साथ ही इन शहरों में 1 अप्रैल से 45 साल से ज्यादा उम्र के लोगों को वैक्सीनेशन शुरू हो रहा है।

मुख्यमंत्री ने कहा कि जिन जिलों और नगरों में ज्यादा संक्रमण है, वहां वैक्सीनेशन के अभियान को हम युद्ध स्तर पर चलाएंगे।



Related