शूद्र को शूद्र कह दो तो बुरा लग जाता है, यह नासमझी है… साध्वी प्रज्ञा ठाकुर


साध्वी प्रज्ञा ठाकुर शनिवार को सिहोर में एक कार्यक्रम में थीं। यहां उन्होंने एक के बाद एक कई बयान दिए। उन्होंने कहा कि देश की रक्षा के लिए क्षत्रीय ज़रूरी हैं। जनसंख्या नियंत्रण कानून पर उन्होंने कहा कि संतान पैदा कीजिए और उन्हें सैनिक बनाईए। इसके अलावा साध्वी ने पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी को पागल भी बताया। उन्होंने किसान आंदोलन पर भी अपनी राय दी और कहा कि इस आंदोलन में किसान नहीं बल्कि वामपंथी और कांग्रेसी शामिल हैं।


देश गांव
राजनीति Updated On :

भोपाल। साध्वी प्रज्ञा ठाकुर एक बार फिर सुर्ख़ियों में हैं। शनिवार को उनके कई बयान सोशल मीडिया पर गोते लगाते रहे। जिन पर कई लोगों ने अचरज भी जताया। कांग्रेसी नेता जहां इस पर लगातार चुटकी ले रहे हैं तो वहीं भारतीय जनता पार्टी इसे लेकर पूरी तरह चुप है।

साध्वी प्रज्ञा ने सीहोर में एक जनसंपर्क कार्यक्रम में हिस्सा ले रहीं थी। यहां उन्होंने जनसंख्या नियंत्रण कानून को लेकर कहा कि राष्ट्रहित में क्षत्रियों को अधिक संख्या में बच्चे पैदा करना चाहिए। उनका तर्क था कि क्षत्रिय कुल खत्म हो जाएगा तो राष्ट्र की रक्षा कौन करेगा?

देश की रक्षा के लिए संतान पैदा कीजिए…

उन्होंने कहा कि देश की रक्षा के लिए संतान पैदा कीजिए और उन्हें सैनिक बनाइए। जनसंख्या नियंत्रण का यह कानून तो उन लाेगाें पर लागू होना चाहिए जाे देश विरोधी गतिविधियों में शामिल रहते हैं।

भोपाल सांसद बन चुकीं साध्वी ने यहां एक और तर्क देकर वर्ण व्यवस्था को समझाने की कोशिश की। उन्होंने कहा कि

हमारे धर्म शास्त्रों में चार वर्ण तय किए गए है। क्षत्रिय को क्षत्रिय कह दो, बुरा नही लगता।.ब्राह्मण को ब्राह्मण कह दो तो बुरा नही लगता। वैश्य को वैश्य कह दो तो भी बुरा नही लगता लेकिन शुद्र को शुद्र कह दो तो बुरा लग जाता है। कारण क्या है? यह उनकी ना समझी है।

ममता पागल हो गईं हैं…

यहां ठाकुर ने मीडिया से चर्चा के दौरान पश्चिम बंगाल में भाजपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष जेपी नड्डा व महामंत्री कैलाश विजयवर्गीय के काफिले पर हुए हमले को लेकर कहा कि वह पागल हो गई हैं। ममता बनर्जी तिलमिला गई हैं, उनको समझ आ गया है कि बंगाल में हिन्दू शासन आएगा। बंगाल अखंड भारत का हिस्सा है। वे इसे अलग करने का प्रयास कर रही हैं। लेकिन भाजपा ऐसा नहीं होने देगी।

किसान आंदोलन में किसान नहीं…

वहीं किसान आंदोलन को लेकर साध्वी प्रज्ञा बोलीं कि इस आंदोलन में देश विरोधी लोग शामिल हैं। वे किसान नहीं, उनके वेश में वामपंथी और कांग्रेसी हैं। जो आंदोलन में शामिल होकर भ्रम फैला रहे हैं। ऐसे लोगों को जेल भेज देना चाहिए।

साध्वी प्रज्ञा पहले ही महात्मा गांधी के हत्यारे नाथूराम गोडसे को देशभक्त बता चुकी हैं। उस वक़्त उनके इस बयान से भारतीय जनता पार्टी के नेताओं को शर्मिंदा होना पड़ा था। साध्वी के कई अटपटे बयान इन दिनों भी सोशल मीडिया पर छाए रहते हैं।



Related