पेट्रोल-डीजल के बढ़ते दामों पर राजनीति तेज, कमलनाथ पूछ रहे कहां गए साईकिल-बैलगाड़ी से विरोध करने वाले


प्रदेश में जनता के मुद्दों पर कमलनाथ सक्रिय नजर आ रहे हैं। मंगलवार को उन्होंने ट्वीट कर पेट्रोल-डीजल की मंहगाई का मुद्दा उठाया। उन्होंने सरकार से पेट्रोल-डीजल के दाम करने की भी बात कही। उन्होंने सवाल किया कि जो लोग पहले दाम बढ़ोत्तरी पर पैदल यात्रा और बैलगाड़ी चलाते थे वे अब कहां हैं, मौन क्यों हैं…


देश गांव
राजनीति Updated On :

भोपाल। उपचुनावों के परिणामों के बाद कांग्रेस प्रदेश अध्यक्ष और पूर्व मुख्यमंत्री कमलनाथ जनता के मुद्दों को लेकर शिवराज सरकार के खिलाफ़ लगातार सक्रिय नजर आ रहे हैं। मंगलवार को उन्होंने कई ट्वीट किए और प्रदेश को नसीहतें दीं। कमलनाथ ने एक-एक करके कई मुद्दों पर ट्वीट किए। वहीं गृह मंत्री नरोत्तम मिश्रा ने कमलनाथ और कांग्रेस को भ्रम का शिकार बताया।

कमलनाथ ने अपने ट्वीट के जरिए प्रदेश में पेट्रोल डीजल की लगातार बढ़ रही कीमतों पर प्रदेश सरकार को आड़े हाथों लिया। उन्होंने लिखा कि देश में मध्यप्रदेश राज्य में सबसे महंगा पेट्रोल मिलने के बाद अब डीजल की औसत कीमत के मामले में भी मध्य प्रदेश तीसरे नंबर पर पहुंच चुका है।

उन्होंने लिखा कि कोरोना महामारी में पहले से आम लोग बेहद परेशान हैं ऐसे में सरकार को तुरंत ही पेट्रोल डीजल पर लगे करों में कमी कर जनता को राहत देनी चाहिए लेकिन सरकार कुंभकरण की तरह नींद में सोई हुई है। उन्होंने लिखा कि विपक्ष में रहकर विरोध में साइकिल चलाने वाले बैलगाड़ी यात्रा निकालने वाले आज गायब हैं, मौन हैं।


कमलनाथ ने शहडोल में नवजात बच्चों की मौत के मामले में भी ट्वीट किया उन्होंने लिखा की शहडोल में मासूम बच्चों की मौत का आंकड़ा लगातार बढ़ता जा रहा है दो और बच्चों की मौत की जानकारी सामने आई है यह आंकड़े गंभीर और चिंताजनक है सरकार को इस मामले को बेहद गंभीरता से लेते हुए आवश्यक निर्णय लेना होगा।


इसी मामले पर एक अन्य ट्वीट में कमलनाथ ने लिखा कि भर्ती सभी गंभीर हालत के बच्चों को समुचित इलाज मिले और उन्हें मौत के मुंह में जाने से बचाया जा सके। जरूरत पड़ने पर उन्हें प्रदेश के अन्य अस्पतालों में शिफ्ट कर सरकार अपने खर्च पर उनका इलाज करवाएं और पीड़ित परिवारों की भी हर संभव मदद करें



Related