नरोत्तम मिश्रा से लेकर रमेश मैंदोला तक कई बीजेपी नेता उड़ा रहे राहुल गांधी की खिल्ली


प्रदेश में निकाय और पंचायत चुनावों से पहले कांग्रेसी नेताओं और कार्यकर्ताओं का मनोबल तोड़ने और पार्टी को कमज़ोर करने के लिए यह बीजेपी की रणनीति भी हो सकती है। 


देश गांव
राजनीति Updated On :

भोपाल। कांग्रेस और गांधी परिवार विशेषकर राहुल गांधी के लिए आजकल समय अच्छा नहीं गुज़र रहा है। पहले पूर्व अमेरिकी राष्ट्रपति बराक ओबामा की किताब में राहुल पर की गई टिप्पणी, इसके बाद बिहार चुनावों में राहुल की निष्क्रियता पर राजद के शिवानंद तिवारी द्वारा कीगई राहुल गांधी की आलोचना और फिर वरिष्ठ नेता कपिल सिब्बल द्वारा कांग्रेस पार्टी की कमजोरियां बताने वाला इंटरव्यू  ख़ासा चर्चित रहा।

अब बीजेपी के नेता भी इसे लेकर कांग्रेस और गांधी परिवार पर हमला बोल रहे हैं। चुनावों के बाद यह हमला कोई बहुत गंभीर नहीं है लेकिन हंसी उड़ाने वाला ज़रूर है।  मध्यप्रदेश बीजेपी के नेता भी आजकल इसी काम में लगे हुए हैं।

बहुत से नेताओं के सोशल मीडिया अकाउंट्स पर राहुल गांधी और कांग्रेस पर हास्यास्पद टिप्पणियां नजर  रहीं हैं। प्रदेश में निकाय और पंचायत चुनावों से पहले कांग्रेसी नेताओं और कार्यकर्ताओं का मनोबल तोड़ने और पार्टी को कमज़ोर करने के लिए यह बीजेपी की रणनीति भी हो सकती है क्योंकि प्रदेश में अब निकाय चुनावों की सुगबुगाहट तेज़ हो चुकी है।

हालांकि इस बारे में पूछे जाने पर बीजेपी के एक नेता इंकार करते हैं उनके मुताबिक राहुल गांधी और कांग्रेस जब विधानसभा चुनावों में महत्वहीन थे तो निकाय और पंचायत चुनावों में उनका होना न होना क्या ही असर डाल सकता है। इस बारे में कांग्रेस के पास कोई सटीक जवाब फिलहाल तो नजर नहीं आ रहा है।

http://

इंदौर से विधायक रमेश मैंदोला उपचुनाव में राहुल का न आना बीजेपी का नुकसान बता रहे हैं। उनके मुताबिक राहुल आ जाते तो उनकी कम से कम चार सीटें और बढ़ जातीं। वहीं अब गृह मंत्री नरोत्तम मिश्रा भी राहुल गांधी पर निशाना साध रहे हैं। वे कहते हैं कि राहुल गांधी हार की सिल्वर जुबली पूरी कर चुके हैं और अब कांग्रेस में यह माना जाने लगा है कि गांधी परिवार के नेतृत्व में कांग्रेस का कोई भविष्य दिखाई नहीं दे रहा है।

 



Related