भोपाल गैस त्रासदी: 36 साल बाद भी पीड़ित न्याय के लिए भटक रहे हैं, इस बार भी होगी प्रार्थना और श्रद्धांजलि सभाएं


लोगों ने मशाल मार्च निकाल कर दोषी लोगों को सजा देने के लिए विशेष कमेटी गठन की मांग की।


देश गांव
सबकी बात Published On :

भोपाल।  भोपाल गैस त्रासदी की 36 वीं बरसी की पूर्व संध्या पर  लोगों ने राजधानी में लोगों में मृतात्माओं के लिए प्रार्थना की। लोगों ने मशाल मार्च निकाल कर दोषी लोगों को सजा देने के लिए विशेष कमेटी गठन की मांग की।

मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान भोपाल गैस त्रासदी की 36वीं बरसी पर भोपाल के बरकतउल्ला भवन (केन्द्रीय पुस्तकालय) में गुरूवार 3 दिसम्बर को सर्वधर्म प्रार्थना सभा में शामिल होंगे। यह प्रार्थना सभा प्रात: 10 बजे से रहेगी। कार्यक्रम सोशल डिस्टेंसिंग के साथ सीमित लोगों की उपस्थिति में होगा। प्रार्थना सभा में दिवंगत गैस पीड़ितों को श्रद्धांजलि अर्पित की जाएगी। विभिन्न धर्म गुरु, धर्मग्रंथों में से पाठ भी करेंगे।

श्रद्धांजलि सभा में कोरोना महामारी को दृष्टिगत रखते हुए सोशल डिस्टेंसिंग, मास्क, हैंड सेनेटाइजर सहित भारत सरकार और राज्य सरकार द्वारा जारी दिशा-निर्देशों का पालन उपस्थित होने वाले आगंतुकों को सुनिश्चित करने के निर्देश दिए गए हैं।

सरकार ने आदेश दिया है कि, गुरुवार को प्रदेश में सभी सरकारी कार्यालय और संस्थाएं बंद रहेंगी।

 

भोपाल में 2-3 दिसम्बर 1984 यानी आज से 36 साल पहले दर्दनाक हादसा हुआ था। 2-3 दिसम्बर 1984 की  आधी रात को यूनियन कार्बाइट के प्लांट में जहरीली गैस मिथाइल आइसोसाइनेट का रिसाव  हुआ था, जिसकी वजह से  सरकारी आंकड़ों के मुताबिक 5 हजार लोगों की मौत हो गई थी, जबकि जानकारों का कहना है कि जहरीली गैस की वजह से करीब 15 हजार लोगों की जान गई थी।

कुछ तस्वीरें उस भयानक घटना से जुड़ी हुई …..

 



Related