इस थाने में बंद होने के लिए फिर मौका खोज रहे हैं लोग, ख़ूबियां ऐसी कि पुलिस के मुरीद हो जाएं आप


नया नगर पुलिस थाने के ये गूगल रिव्यू अगर वाक़ई सही हैं तो यह व्यवस्था पुलिस के एक आदर्श व्यवहार को दर्शाती है जिसे लागू करना ज़रूरी है और अगर नहीं तो भी आज हमारे समाज को इस तरह की पुलिसिंग की ज़रूरत है। जो अपने नागरिकों को सभ्यता और शिष्टाचार का पाठ अपने व्यक्तित्व के उदाहरण से समझाएं न कि शारिरिक या भाषाई हिंसा से।   


देश गांव
सबकी बात Updated On :

भोपाल। पुलिस और थाने का नाम सुनकर आम तौर पर लोगों के मन में डर पैदा हो ही जाता है। एक बार थाने और पुलिस के चक्कर में पड़ा इंसान दुआ करता है कि उसे दोबारा कभी ये दिन न देखना पड़े। पुलिस कर्मियों को देखकर उनकी कड़क और कई बार डराती हुई भाषा भी लोगों के इस डर की वजह है। ऐसे में क्या ऐसा भी कोई थाना या पुलिस हो सकती है जिससे मिलने की इच्छा बार-बार हो। जहां के लॉकअप में बंद होने पर मन ख़ुश हो जाए!

जी हां, ऐसा भी एक थाना है जहां जाने में लोगों को डर नहीं लगता बल्कि उन्हें मज़ा आता है। मुंबई (Mumbai) के नज़दीक थाणे ग्रामीण पुलिस (Thane) मीरा रोड़ भायंदर में नया नगर पुलिस (Naya Nagar Police Station) थाना इसी तरह का एक थाना है।

गूगल रेटिंग और एक आईपीएस अधिकारी संतोष सिंह की अनुशंसा पर लोग अचानक इस थाने की बात करने लगे हैं। संतोष सिंह छत्तीसगढ़ के रायगढ़ के एसपी हैं।

 

आईपीएस संतोष सिंह

गूगल पर इस थाने को पहले 3.4 की रेटिंग मिली थी जो अब 4.3 की हो चुकी है। रेटिंग साझा करते हुए आईपीएस संतोष सिंह ने एक कमेंट भी साझा किया है। जिसमें मंसूरी आवेश नाम के एक व्यक्ति ने इस थाने के बारे में अपना अनुभव साझा किया है।

उन्होंने लिखा है कि जब वे गिरफ्तार होकर नया नगर पुलिस थाने में पहुंचे तो वहां के पुलिस स्टाफ ने उनसे बहुत ही अच्छे से बात की। उन्हें जिस कैदखाने में रखा गया वह भी बहुत साफ-सुथरा और बड़ा था। इसके अलावा उन्हें अच्छा और ताज़ा खाना भी दिया गया।

वे आगे लिखते हैं कि उनकी हथकड़ी बस थोड़ी सख़्त थी लेकिन यह भी बुरा नहीं था। यहां के पुलिस अधिकारियों का व्यवहार भी बहुत अच्छा था। वे बहुत अच्छी तरह बात करते थे। मंसूरी आवेश कहते हैं कि अगर उन्हें दोबारा मौका मिले तो उस थाने में ज़रूर जाना चाहेंगे।

इसके अलावा यूट्यूब पर भी नया नगर पुलिस थाने के बारे में कुछ वीडियो हैं। जिसमें बताया गया है कि यहां मुंबई पुलिस का भरोसा सैल काम कर रहा है। जो विवादों को सुलझाने में पक्षकारों की मदद करता है।

इस दौरान काउंसलर और वकीलों की सलाह भी पुलिस ही दिलवाती है। पुलिस का यह तरीका अपराध दर कम करने के लिए काफी कारगर साबित होता है। इस पुलिस स्टेशन के इंचार्ज या थाना प्रभारी फिलहाल इंस्पेक्टर कैलाश भर्वे हैं।

नया नगर पुलिस थाने के ये गूगल रिव्यू अगर वाक़ई सही हैं तो यह व्यवस्था पुलिस के एक आदर्श व्यवहार को दर्शाती है जिसे लागू करना ज़रूरी है और अगर नहीं तो भी आज हमारे समाज को इस तरह की पुलिसिंग की ज़रूरत है। जो अपने नागरिकों को सभ्यता और शिष्टाचार अपने व्यक्तित्व के उदाहरण से समझाएं न कि शारिरिक या भाषाई हिंसा से।



Related