प्रदेश में पेट्रोल की कीमत केवल चालीस रुपये प्रति लीटर…. बाकी सब टैक्स


प्रदेश सरकार डीजल और पेट्रोल की कीमतों में किसी भी तरह की कटौती करने के मूड में नहीं है। कोरोना महामारी की शुरुआत में जब क्रूड ऑयल की कीमतें 18 डॉलर प्रति बैरल तक पहुंच गई थी उस समय भी देश और प्रदेश में पेट्रोलियम उत्पादों की दामों में कोई कमी नहीं हुई अब जहां क्रूड ऑयल 50 डॉलर प्रति बैरल पर पहुंच गया है दाम बढ़ने में हैरानी नहीं होनी चाहिए।


देश गांव
सबकी बात Updated On :
Picture Courtesy: TOI


भोपाल। मध्य प्रदेश में बीते एक महीने में एक लीटर पेट्रोल की कीमत केवल 40 रुपये है लेकिन एक लीटर पेट्रोल भरवाने के लिए आपको 90 रूपये से कुछ ज्यादा तक देने पड़ेंगे क्योंकि सरकार तकरीबन 50 रुपये आपसे टैक्स के रूप में ले रही है। फिलहाल प्रदेश में डीज़ल के दाम 80.47 रुपये प्रति लीटर है और पेट्रोल के दाम 90.33 रुपये प्रति लीटर हैं।

पीपुल्स समाचार अखबार के रिपोर्टर संतोष चौधरी की बुधवार को प्रकाशित रिपोर्ट के मुताबिक यही हाल डीजल का भी है। रिपोर्ट कहती है कि वेट कम करने की मांग लगातार उठती रही लेकिन सरकार इसे हर बार नजरअंदाज करती है। सरकार को वैट से करीब 11 हजार करोड़ रुपये की सालाना आमदनी होती है। इस मामले पर कांग्रेस पार्टी भी विरोध कर रही है।

मध्यप्रदेश में पेट्रोल पर जहां 39% टैक्स चुकाना पड़ता है। पिछले दिनों वेब दुनिया समाचार वेबसाइट से बात करते हुए डीजल पेट्रोलियम एसोसिएशन के अध्यक्ष अजय सिंह ने बताया कि 39% टैक्स में राज्य सरकार को करीब 32 रुपये मिलते हैं वहीं डीजल पर 28 रुपये टैक्स के रुप में मिलते है।

प्रदेश सरकार डीजल और पेट्रोल की कीमतों में किसी भी तरह की कटौती करने के मूड में नहीं है। कोरोना महामारी की शुरुआत में जब क्रूड ऑयल की कीमतें 18 डॉलर प्रति बैरल तक पहुंच गई थी उस समय भी देश और प्रदेश में पेट्रोलियम उत्पादों की दामों में कोई कमी नहीं की गई। अब जहां क्रूड ऑयल 50 डॉलर प्रति बैरल पर पहुंच गया है तो दाम बढ़ने में हैरानी नहीं होनी चाहिए।

दुनिया में भारत में जहां पेट्रोलियम उत्पादों पर सबसे अधिक टैक्स लगाए जाते हैं तो वहीं भारत में मध्य प्रदेश राज्य टैक्स लगाने में सबसे आगे है। इसी साल जून के महीने में भी प्रदेश सरकार ने पेट्रोल और डीजल पर एक एक रुपए का अतिरिक्त टैक्स लगाया था इसे कोरोना टैक्स का नाम दिया गया। बताया गया कि भी पटरी हो रही राज्य की अर्थव्यवस्था को इससे कुछ हद तक लाभ मिल सकता है।



Related