MP: गृहमंत्री नरोत्तम मिश्रा कोरोना वैक्सीन ट्रायल वॉलंटियर के लिए फिट नहीं पाए गये


प्रदेश के गृहमंत्री नरोत्तम मिश्रा आज  भोपाल में कोवैक्सीन ट्रायल सेंटर में सहभागिता करने के लिये भानपुरा स्थित पीपुल्स मेडिकल कॉलेज पहुँचे। उन्होंने कोरोना महामारी से बचाव के लिये कोवैक्सीन के ट्रायल में सहभागी बनने का लोगों से आव्हान किया। डॉ. मिश्रा ने ट्रायल सेंटर पर वॉलन्टियर बनने के इच्छुक लोगों का उत्साहवर्धन करते हुए कहा कि यह भी राष्ट्र सेवा है। उन्होंने ट्रायल सेंटर में मौजूद कोरोना योद्धाओं को सम्मानित भी किया।


देश गांव
बड़ी बात Updated On :

भोपाल: प्रदेश के गृहमंत्री नरोत्तम मिश्रा एलिजिबिलिटी क्राइटेरिया में फिट नहीं पाए गये। उन्होंने मीडिया से बात करते हुए कहा कि, पीपुल्स मेडिकल कॉलेज के डीन डॉ.अनिल दीक्षित ने बताया कि ICMR की गाइडलाइन अनुसार मुझे वॉलंटियर के रूप में वैक्सीन नहीं लगाया जा सकता। एलिजिबिलिटी क्राइटेरिया के मुताबिक वॉलंटियर के किसी निकट परिजन को कोविड -19 नहीं होना चाहिए। जबकि उनकी पत्नी और बेटे इससे संक्रमित हो चुके हैं।  

प्रदेश के गृहमंत्री नरोत्तम मिश्रा आज  भोपाल में कोवैक्सीन ट्रायल सेंटर में सहभागिता करने के लिये भानपुरा स्थित पीपुल्स मेडिकल कॉलेज पहुँचे। उन्होंने कोरोना महामारी से बचाव के लिये कोवैक्सीन के ट्रायल में सहभागी बनने का लोगों से आव्हान किया। डॉ. मिश्रा ने ट्रायल सेंटर पर वॉलन्टियर बनने के इच्छुक लोगों का उत्साहवर्धन करते हुए कहा कि यह भी राष्ट्र सेवा है। उन्होंने ट्रायल सेंटर में मौजूद कोरोना योद्धाओं को सम्मानित भी किया।

जनसंपर्क विभाग, मध्यप्रदेश शासन द्वारा जारी विज्ञप्ति में कहा है कि, इंडियन काउंसिल ऑफ मेडिकल रिसर्च (आईसीएमआर) की गाईडलाइन अनुसार कोवैक्सीन वॉलन्टियर बनने के इच्छुक लोगों की काउंसलिंग, डॉक्यूमेंटेशन, स्क्रीनिंग की जाती है। इसके पश्चात वैक्सीनेशन किया जाता है। गाईडलाइन के अनुसार मंत्री डॉ. मिश्रा की काउंसलिंग की गई। उन्होंने कोवैक्सीन ट्रायल का वॉलन्टियर बनने के लिये अपनी सहमति भी प्रदान कर दी थी। काउंसलिंग के दौरान डॉ. मिश्रा द्वारा बताया गया कि परिवार में धर्मपत्नी और बच्चे कोरोना पॉजिटिव आ चुके है। कोवैक्सीन ट्रायल सेंटर के वैक्सीन कॉर्डिनेटर डॉ. राघवेन्द्र गुमास्ता ने डॉ. मिश्रा को अवगत कराया कि वैक्सिनेशन वॉलन्टियर एलिजिबिलिटी क्राईटेरिया अंतर्गत उन्हें वॉलन्टियर बनाया जाना सुसंगत नहीं है।

मंत्री डॉ.मिश्रा ने बताया कि वैक्सीन ट्रायल की प्रक्रिया का सरलीकरण किया जाना चाहिए। उन्होंने कहा कि वे प्रक्रिया के सरलीकरण के लिये उचित फॉरम के माध्यम से इंडियन काउंसिल ऑफ मेडिकल रिसर्च (आईसीएमआर) से चर्चा करेंगे। इस अवसर पर पीपुल्स मेडीकल कॉलेज के चांसलर श्री सुरेश नारायण विजयवर्गीय, डीन कर्नल अनिल दीक्षित, वाइस चांसलर श्री राजेश कपूर भी मौजूद थे।