ट्विटर पर दिनभर छाए रहे पीएम नरेंद्र मोदी लेकिन इस बार कुछ और रही वजह


कोरोना संक्रमण काल के दौरान हो रहे चुनाव और प्रभावित राज्यों में अव्यवस्था को लेकर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के प्रति नाराज़गी। ट्विटर पर दिन भर ट्रैंड करता रहा #Modimadedisaster


देश गांव
बड़ी बात Published On :

इंदौर। शनिवार को भारत में 2.34 से ज्यादा कोरोना संक्रमित मिले हैं और 1341 लोगों की मौत हुई है। देश में 175,649 लोग संक्रमण से अब तक अपनी जान गंवा चुके हैं। कोरोना की दूसरी लहर ने देश की तमाम स्वास्थ्य और प्रशासनिक व्यवस्थाओं के साथ राजनीतिक लोगों की जैसे पोल खोल दी है।

इस बीच प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी एक बार फिर सोशल मीडिया पर छाए हुए हैं। शनिवार रात तक ट्विटर पर उनके बारे में करीब 1.33 हज़ार ट्वीट हुए। ज़ाहिर हैं ये ट्वीट उनकी प्रशंसा में नहीं थे बल्कि उन पर देश को गंभीर संकट में झोंकने जैसे आरोप लगाने वाले थे।

मोदी के इस विरोध में तमाम राजनीतिक दलों के साथ आम लोग भी शामिल हुए। दरअसल लोगों का गुस्सा इस बात पर भी था कि जब देश में इतने बुरे हालात हैं उस समय प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी बंगाल में बड़ी-बड़ी रैलियां कर रहे हैं और जब देश के दूसरे हिस्सों में वे लोगों को सोशल डिस्टेंसिंग करने को कह रहे हैं उसी  समय भाजपा के नेता बंगाल और दूसरे चुनावी क्षेत्रों में रैलियों में आने के लिए लोगों को प्रोत्साहित कर रहे हैं।

ट्विटर पर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के इस विरोध में मध्यप्रदेश की भी चर्चा हुई। यहां भोपाल के भदभदा श्मशान घाट पर शुक्रवार को एक साथ कई शवों का दाह हुआ। इस तस्वीर को प्रतिष्ठित हिन्दी अख़बार दैनिक भास्कर ने प्रकाशित किया था। जिसके बाद देशभर में इसकी चर्चा रही। बंगाल चुनावों में भी इसकी चर्चा हुई। तृणमूल कांग्रेस के सर्मथकों ने भी इसे सोशल मीडिया पर ख़ूब साझ़ा किया और पीएम मोदी और भाजपा से पूछा कि सोनार मध्यप्रदेश का हाल ऐसा क्यों है!

प्रधानमंत्री मोदी से अकेले मध्यप्रदेश का ही नहीं बल्कि उनके गृह राज्य गुजरात को लेकर भी सवाल पूछे गए।

इस दौरान महाराष्ट्र की भी चर्चा ख़ूब होती रहा। जब प्रधानमंत्री से कोरोना संक्रमण और ऑक्सीजन की कमी पर बात करने के लिए महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री उद्धव ठाकुर ने फोन किया तो उन्हें जवाब मिला कि मोदी फिलहाल बंगाल गए हैं और वहां से आकर ही बात कर सकेंगे। उल्लेखनीय है कि महाराष्ट्र में कोरोना संक्रमण रिकार्ड स्तर पर बढ़ रहा है और रोज़ ही सैकड़ों लोगों को मार रहा है।



Related