इस बार मोहन भागवत बिहार चुनाव में क्यों नहीं गए? श्रवण गर्ग का Exclusive उद्घाटन: पार्ट-3


मध्‍यप्रदेश के स्‍थापना दिवस के अवसर पर 1 नवंबर, 2020 को देशगांव चैनल की शुरुआत वरिष्‍ठ संपादक श्रवण गर्ग के एक साक्षात्‍कार के साथ। श्रवण गर्ग हिंदी पत्रकारिता के आखिरी संपादक कहे जाते हैं जिन्‍होंने दशकों दैनिक भास्‍कर के समूह संपादक का प्रभार संभाला। देशगांव टीम से श्रीप्रकाश और अरुण सोलंकी ने मध्‍यप्रदेश की राजनीति, देश की सियासत और आगे की दिशा पर श्री गर्ग से लंबी बातचीत की है।



देश में आदिवासियो-दलितों-बैकवर्ड्स का जो भी प्रतिशत हो, बीजेपी को पीएम बनाने और सत्ता में रहने के लिए कितनी सीटें चाहिए। यूपी, बिहार, राजस्थान, उत्तराखंड, गुजरात आदि राज्यों की सीटें उनको पॉवर में लाने के लिए हैं ही। पॉवर में रहने के लिए उनको दूसरों का कंसेन्सस चाहिए ही नहीं। बीजेपी को साउथ का कंसेन्सस चाहिए ही नहीं। कांग्रेस इस मामले में बीजेपी से कुछ अलग है। साउथ में कांग्रेस बीजेपी से ज्यादा है। बीजेपी को आज हाथ उठाने वाले चाहिए। यही उनका हिन्दू विजन है। सत्ता के लिए पैसा बहाने में भी नैतिकता का प्रश्न नहीं खड़ा होता है।