प्रदेश में 75 हज़ार से अधिक संक्रमित, इंदौर में अप्रैल के 19 दिनों में सौ मौतें


इंदौर में संक्रमण दर 18.03 फीसदी पहुंच गई है।  इसके पहले 6 दिनाें तक लगातार 1600 से अधिक संक्रमित आ रहे थे। प्रदेश के चारों बड़े शहरों में सोमवार को  5393 नए संक्रमित मिले हैं


देश गांव
बड़ी बात Updated On :
corona-madhya-pradesh

इंदौर। प्रदेश संक्रमण से कराह रहा है। ऑक्सीजन की कमी से रोज़ाना मौतें हो रहीं हैं। इस बीच संक्रमितों की संख्या लगातार बढ़ रही है। प्रदेश में बीते चौबीस घंटों में 12897 नए संक्रमित मिले हैं। इस दौरान 79 लोगों की मौत हुई है। इसके साथ ह प्रदेश में फिलहाल 75 हजार संक्रमित से अधिक हो चुके हैं।

एक बार फिर सबसे बड़ा आंकड़ा इंदौर से आया है जहां 1753 नए संक्रमित मिले हैं और आठ लोगों की मौत हो गई है। यह आंकड़ा अब तक का सबसे बड़ा है। इंदौर में संक्रमण दर 18.03 फीसदी पहुंच गई है।  इसके पहले 6 दिनाें तक लगातार 1600 से अधिक संक्रमित आ रहे थे। प्रदेश के चारों बड़े शहरों में सोमवार को  5393 नए संक्रमित मिले हैं और यहां  29 लोगों की संक्रमण से मौत हुई है। अप्रैल के महीने में अब तक इंदौर में ही करीब सौ लोगों की मौत हो चुकी है।

इंदौर में तेज़ी से बढ़ते संक्रमण के चलते कलेक्टर मनीष सिंह ने साफ कर दिया कि काेराेना कर्फ्यू पूरे अप्रैल महीने में जारी रहेगा। उन्होंने कहा- सभी 30 अप्रैल तक घर पर ही रहें। अभी संक्रमण दर स्थिर हुई है, लेकिन ज्यादा है और इसे कम होने में समय लगेगा। उधर, कलेक्टर ने ग्रामीण अंचल में सचिव, आरआरटी एवं स्व सहायता समूह के सदस्यों को डोर टू डोर सर्वे कराकर पात्रों को कोविड का टीका लगाने के लिए प्रेरित करने को कहा है।

कलेक्टर ने जिला पंचायत सीईओ हिमांशु चंद्र के साथ ग्रामीण क्षेत्रों में कोरोना से बचाव के लिए पात्र नागरिकों के कोविड टीकाकरण के लिए विशेष अभियान चलाने को लेकर बैठक की। कलेक्टर ने ग्रामीण अंचलों में सचिव, आरआरटी एवं स्व सहायता समूह के सदस्यों को डोर टू डोर सर्वे कराकर पात्रों को कोविड का टीका लगाने के लिए प्रेरित करने को कहा है।

उन्होंने जिम्मेदार अधिकारियों को ज्यादा से ज्यादा वैक्सीन लगवाने के निर्देश दिए हैं। उन्होंने कहा कि सचिव एवं आरआरटी टीम के माध्यम से ग्रामीण क्षेत्रों में कोरोना संक्रमित मरीज जो होम आइसोलेटेड हैं, उन्हें जल्द जरूरी दवाइयों की किट उपलब्ध कराया जाए।

कलेक्टर मनीष सिंह के अनुसार कोविड वैक्सीन के दूसरे डोज लगने के 20 से 25 दिन के बाद लोगों की पॉजिटिविटी रेट में भी कमी देखी गई है। इसलिए कोविड संक्रमण से उत्पन्न हो रही गंभीर स्थिति से खुद के बचाव के लिए टीकाकरण कराना अत्यंत आवश्यक है।

वहीं भोपाल में सोमवार को भोपाल में 1694 कोरोना संक्रमित मरीज मिले हैं। इस दौरान 5600 सैंपल की जांच रिपोर्ट में सामने आए है। इस तरह संक्रमण दर 30.25 फीसद रही। यानी लगभग हर तीसरा सैंपल पॉजिटिव आ रहा है। इसके एक दिन पहले भोपाल में 1703 कोरोना संक्रम‍ित मिले थे। सोमवार को भोपाल में 1540 मरीज स्वस्थ होकर घर रवाना हुए हैं।



Related