किसान आंदोलन: सिंघु बॉर्डर पर बैठे किसानों के खिलाफ दिल्ली पुलिस ने किया केस दर्ज


सरकार और किसानों के बीच  अब तक हुई सभी बातचीत बेनतीजा रही है। किसान नेताओं ने साफ़ कह दिया है कि वे इन कानूनों के वापस लेने के सिवा किसी बात पर समझौता नहीं करेंगे उधर सरकार भी हार नहीं मानना नहीं चाहती। ऐसे में 8 दिसंबर के सफल भारत बंद के आयोजन के बाद अब किसान संगठनों ने आन्दोलन तेज करने और 14 तारीख को फिर भारत बंद का ऐलान किया है। 12 दिसंबर को दिल्ली जयपुर राजमार्ग जाम करने का  भी एलान किया है किसानों ने।


देश गांव
उनकी बात Published On :

नई दिल्ली:  कृषि कानूनों के खिलाफ दिल्ली के सिंघु बॉर्डर पर बीते 16 दिनों से खुले आकाश के नीचे कडकडाती ठण्ड में सड़क पर बैठे धरना दे रहे किसानों के खिलाफ दिल्ली पुलिस ने मुकदमा दर्ज किया है। पुलिस ने किसानों पर सोशल डिस्टेंसिंग का पालन ना करने और महामारी एक्ट समेत अन्य धाराओं में मुकदमा दर्ज किया है।

गौरतलब है कि,  बीते 29 नवंबर को लामपुर बॉर्डर से हजारों की संख्या में किसान जबरन दिल्ली सीमा में घुस आए थे। जिसके बाद उन्होंने सिंघु बॉर्डर पर ही डेरा डाल लिया।

बता दें कि, सरकार और किसानों के बीच  अब तक हुई सभी बातचीत बेनतीजा रही है। किसान नेताओं ने साफ़ कह दिया है कि वे इन कानूनों के वापस लेने के सिवा किसी बात पर समझौता नहीं करेंगे उधर सरकार भी हार नहीं मानना नहीं चाहती। ऐसे में 8 दिसंबर के सफल भारत बंद के आयोजन के बाद अब किसान संगठनों ने आन्दोलन तेज करने और 14 तारीख को फिर भारत बंद का ऐलान किया है। 12 दिसंबर को दिल्ली जयपुर राजमार्ग जाम करने का  भी एलान किया है किसानों ने।

पुलिस ने किसानों पर यह कोई पहला मामला दर्ज नहीं किया है इससे पहले भी हजारों किसानों पर मुकदमा दर्ज किये जा चुके हैं पर किसान अपनी मांगों को लेकर चट्टान की तरह खड़े हैं। बीते 30 नवंबर को भी किसानों पर दंगा और सरकारी संपत्ति को नुकसान पहुँचाने का केस दर्ज किया था।

बता दें कि, हरियाणा, यूपी और दिल्ली पुलिस द्वारा तमाम अवरुद्ध खड़ा करने, आंसू गैस और लाठी मारने , तेज पानी के बौछार के बाद भी किसानों ने धैर्य और अनुशासन का परिचय दिया है अब तक।

 



Related