VIDEO: प्रधानमंत्री मोदी की मन की बात के दौरान आंदोलन स्थल पर खूब बजी थाली और ताली


इस दौरान सोशल मीडिया पर भी मन की बात कार्यक्रम को लेकर ट्रैंड चलने लगे। यह ट्रैंड काफी देर तक बना रहा। यहां लोगों ने किसान आंदोलन और उनकी मांगों को लेकर सरकार द्वारा कोई ठोस पहल न किए जाने पर नाराज़गी जताई।


देश गांव
उनकी बात Updated On :

नई दिल्ली। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी का कार्यक्रम मन की बात रविवार सुबह प्रसारित हुआ। प्रधानमंत्री देश के नागरिकों से अपने मन की बात इस कार्यक्रम में करते हैं। भारतीय जनता पार्टी के तमाम नेताओं और मंत्रियों के सोशल मीडिया अकाउंट पर जहां उन्होंने मन की बात सुनते हुए अपनी तस्वीरें साझा की हैं तो वहीं आंदोलनकारी किसानों और उनके सर्मथकों ने मोदी के मन की बात का ख़ासा विरोध किया गया।

मन की बात का विरोध राजस्थान, हरियाणा, पंजाब में बड़े पैमाने पर देखने और सुनने को मिला। वहीं अन्य राज्यों में भी इसका असर नजर आया।

यहां किसानों ने प्रधानमंत्री मोदी का विरोध करने के लिए वही तरीका अपनाया जिसे प्रधानमंत्री ने कोरोना महामारी में लॉकडाउन के दौरान जनता को उत्साहित करने के लिए अपनाया था। किसानों ने मन की बात का विरोध थाली और ताली बजाकर किया।

 

दिल्ली बॉर्डर पर जहां किसान आंदोलन चल रहा है वहां किसानों ने बड़ी संख्या में इसका विरोध किया और लगातार थाली और ताली बजाई। मन की बात का विरोध राजस्थान, हरियाणा, पंजाब में बड़े पैमाने पर देखने और सुननो को मिला वहीं अन्य राज्यों में भी इसका असर नजर आया। लोगों ने थालियां बजाते हुए अपने वीडियो खूब पोस्ट किये। _

किसानों ने कहा कि प्रधानमंत्री अपने किसानों के मन की बात नहीं सुन रहे हैं और केवल अपनी ही कह रहे हैं ऐसे में विरोध तो करना बनता ही है। किसानों के हाथ में जो आ रहा था उसे ही बजाकर वे अपना विरोध जता रहे थे। यहां टिकरी बॉर्डर पर लगातार नारेबाजी भी होती रही। किसानों ने कहा कि उन्हें सरकार की नियत पर भरोसा नहीं है।

इस दौरान सोशल मीडिया पर भी मन की बात कार्यक्रम को लेकर ट्रैंड चलने लगे। यह ट्रैंड काफी देर तक बना रहा। यहां लोगों ने किसान आंदोलन और उनकी मांगों को लेकर सरकार द्वारा कोई ठोस पहल न किए जाने पर नाराज़गी जताई। उल्लेखनीय है कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के यूट्यूब चैनलों पर होने वाले उनके प्रसारणों में पिछले कुछ महीनों में दर्शकों की संख्या कम हुई है और उन्हें नकारात्मक प्रतिक्रियाएं भी मिल रहीं हैं।

 



Related