बारदाने नहीं होने से कई केंद्रों में एक हफ्ते से गेहूं खरीदी बंद, भटक रहे किसान


किसानों ने बताया कि पिछले कई दिनों से यह स्थिति बनी हुई है कि बारदाने नहीं होने से किसान वापस हो रहे हैं। इन किसानों को आशंका है कि 15 मई गुजर ही रही है, 25 मई आखिरी तारीख है। क्या पता उनका गेहूं खरीदा जायेगा या नहीं।


ब्रजेश शर्मा ब्रजेश शर्मा
उनकी बात Published On :
sacks-shortage-narsinghpur

नरसिंहपुर। एक तरफ कोरोना संक्रमण की आफत और दूसरी ओर व्यवस्थाएं भी बेपटरी, इससे किसान भी जूझ रहे हैंl जिले के कई खरीदी केंद्रों में बारदाने नहीं होने से गेहूं खरीदी बंद हो गई है।

सालीचौका के एक नजदीकी केंद्र में किसान टॉवल सिंह, किशोर राय, वनवारी कौरव गेहूं लेकर पहुंचे हैं। ट्राली खड़ी की। उसी दरम्यान उन्हें बताया जाता है कि आपका गेहूं नहीं लिया जाएगा क्योंकि अभी बारदाने नहीं हैं। बारदाने आएंगे तो आपको दोबारा एसएमएस मिलेगा। ऐसे कई और किसान उस केन्द्र में मौजूद थे।

किसानों ने बताया कि पिछले कई दिनों से यह स्थिति बनी हुई है कि बारदाने नहीं होने से किसान वापस हो रहे हैं।

रामकुमार, दीपचन्द यह समस्या भी बतलाते हैं कि अगर 8-10 किसान एसएमएस मिलने पर पहुंचते हैं और जब गेहूं नहीं लिया जाता तो दोबारा एसएमएस भी नहीं मिलता। इक्के-दुक्के किसानों को ही दोबारा एसएमएस मिल जाए तो बहुत बड़ी बात है।

इन किसानों को आशंका है कि 15 मई गुजर ही रही है, 25 मई आखिरी तारीख है। क्या पता उनका गेहूं खरीदा जायेगा या नहीं।

sacks-shortege

केन्द्रों के अफसरों का कहना है कि बारदाने के लिए ऑर्डर दिया गया है। संभवतः 20 मई तक आने की उम्मीद है। जिले में अब तक आधे किसान ही अपना गेहूं केंद्रों तक पहुंचा जा सके हैं।

जिले में गेहूं बेचने के लिए इस बार 57 हजार 302 किसानों ने पंजीयन कराया है जिनके लिए 100 खरीदी केंद्र तय किए गए हैं। जिले में 14 मई तक 24 हजार 849 किसानों से 16 लाख 29 हजार 141 क्विन्टल गेहूं का उपार्जन हो सका है।

पंजीकृत किसानों में से 56 फ़ीसदी किसान अभी भी अपनी उपज बेचने के लिए एसएमएस का इंतजार कर रहे हैं। बारदाने कब आएंगे, यह भी निश्चित नहीं है और फिर हफ्ते में 5 दिन ही खरीदी हो रही है।

अब उन्हें यह चिंता सता रही है कि समय पर गेहूं बिक जाता तो बेहतर होता क्योंकि मौसम का कोई भरोसा नहीं है। उधर कई केंद्रों में खरीदा गया गेहूं भी खुले आसमान तले पड़ा हुआ है।

मौसम बेपटरी होने की आशंका भी बनी हुई है। दावे जरूर किए जा रहे हैं कि 87 फीसदी गेहूं का परिवहन किया जा चुका है।

तीन हजार गठान का दिया है ऑर्डर –

बारदाने की समस्या तो है। करीब 3000 गठानों का ऑर्डर दिया गया है। संभावना है कि सोमवार-मंगलवार तक पहुंच जाएगा। दरअसल मौसम भी बदलने का अनुमान बताया गया है। संभवतः हो सकता है कि बारिश-तूफान हो इसलिए केंद्रों में रखे गेहूं का परिवहन कराया जा रहा है।

– आरएस तिवारी, जिला विपणन अधिकारी, नरसिंहपुर



Related






ताज़ा खबरें