फ्रांस के राष्ट्रपति के खिलाफ भोपाल में हुए प्रदर्शन पर सरकार सख़्त, उपचुनावों की राजनीति भी तेज़


स्थानीय प्रशासन ने इस कार्यक्रम के आयोजक और स्थानीय कांग्रेसी विधायक आरिफ मसूद और उनके करीब 2000 समर्थकों पर भीड़ जुटाने के खिलाफ मामला दर्ज कर लिया है। इसके बाद शुक्रवार को मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने भी इसे लेकर कार्रवाई की बात कही है।


देश गांव
भोपाल Updated On :
भोपाल के इकबार मैदान पर गुरुवार को हुआ प्रदर्शन


भोपाल। फ्रांस के राष्ट्रपति इमानुएल मैक्रों के द्वारा पैगंबर मोहम्मद साहब के विवादित कार्टून का बचाव करने के बाद उनका विरोध मुस्लिम समुदाय में चरम पर है। भारत सरकार पहले ही इस मामले पर फ्रांस को अपना सर्मथन दे चुकी है लेकिन राष्ट्रपति मैक्रों के खिलाफ प्रदर्शन देश में भी जारी हैं।

 

गुरुवार को यह विरोध भोपाल में भी हुआ। जहां हजारों की संख्या में मुस्लिम समाज के लोग इकबाल मैदान पर एक साथ आ गए। इस मामले को लेकर अब राजनीति गर्म होती नजर आ रही है। मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने इस पर अपनी प्रतिक्रिया देते हुए कहा कि किसी भी दोषी को छोड़ा नहीं जाएगा।

वहीं भाजपा प्रदेश अध्यक्ष ने इसे लेकर पूर्व मुख्यमंत्री कमलनाथ और कांग्रेस अध्यक्षा सोनिया गांधी से भी सवाल किए हैं। इसे उपचुनावों से जोड़कर देखा जा रहा है।

इक़बाल मैदान में हुई सभा (तस्वीर विधायक आरिफ़ मसूद के फेसबुक पेज से साभार)

सभा में इमानुएल मैक्रों के खिलाफ नारेबाजी हुई उनकी तस्वीरों को जमीन पर रखकर पैरों से कुचला गया। इस बीच उलेमाओं की तक़रीरें भी जारी रहीं। जिन्हें लोग हाथों में तख्तियां लेकर सुनते रहे। इस दौरान करोना संक्रमण के बचाव का भी कोई ध्यान नहीं रखा गया।

स्थानीय प्रशासन ने इस कार्यक्रम के आयोजक और स्थानीय कांग्रेसी विधायक आरिफ मसूद और उनके करीब 2000 समर्थकों पर भीड़ जुटाने के खिलाफ मामला दर्ज कर लिया है तो वहीं शुक्रवार को मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने भी इसे लेकर कार्रवाई की बात कही है।

शुक्रवार को अपने ट्वीट के जरिए उन्होंने कहा कि इस मामले में आईपीसी की धारा 188 के तहत कार्रवाई की जा रही है और किसी भी दोषी को बख्शा नहीं जाएगा चाहे वह कोई भी हो।

भारतीय जनता पार्टी इसके बहाने कांग्रेस पर निशाना साध रही है। भाजपा के प्रदेश अध्यक्ष विष्णु दत्त शर्मा ने ट्वीट कर पूर्व मुख्यमंत्री कमलनाथ से पूछा कि क्या वे आरिफ मसूद का समर्थन करते हैं और अगर समर्थन करते हैं तो आपने भी इस पर कुछ बोला क्यों नहीं!

 



Related