बारिश के साथ आगे तेज़ ठंड की तैयारी पूरी, फसलों के लिए बेहद फायदेमंद साबित हो रहा ये मौसम


इस समय अगर मावठे की बारिश हुई तो रबी सीजन की फसलों को काफी लाभ मिलेगा। इस समय गेंहू, चना,सरसों की फसलों में सिंचाई का सीजन चल रहा है।


आशीष यादव आशीष यादव
धार Published On :

कड़ाके की ठंड का इंतजार कर रहे लोगों को बारिश भिगोने को मजबूर कर दिया। मौसम विभाग द्वारा जारी पूर्वानुमान के अनुसार रविवार को हुई मावठे की बारिश ने सब के चहरे खिला दिए है वही दिन में बरसात के साथ मौसम गुलाबी ह्यो गया वही किसानों के लिए यह बोनस की तरह हो गया है उन्हें रबी की सिंचाई के लिए एक अतिरिक्त पानी मिल जाएगा। जिले में रविवार की सुबह के समय से मौसम में बदलाव हुआ है।

सुबह के समय से आसमान में बादल छा गए हैं। साथ की हवा की रफ्तार तेज हो गई है जिसके कारण सर्द हवा चलने की वजह से ठंड का असर बढ़ गया है। दरअसल पश्चिमी विक्षोभ के चलते मौसम की मिजाज में अचानक बदलाव आया है। शनिवार को पूरे दिन आसमान में बादल छाए रहे। इसके चलते दिन के तापमान में 3 से 4 डिग्री की गिरावट आई। वहीं न्यूनतम तापमान में 0.9 डिग्री कम दर्ज की गई है।

रविवार को दोपहर बाद से तेज व रिमझिम बारिश होती रही। कल ओर आज के तापमान में 4 डिगी कम दर्ज किया है वही अधिकतम तापमान 29.4 से 25.3 डिग्री और न्यूनतम तापमान 14.6 से 14.7 डिग्री सेल्सियस देखने को मिला है। हवा पूर्व से और दक्षिण-पूर्व दिशा की चली व हवा की रफ्तार 12 से 20 किलोमीटर प्रति घंटा चली। वही रविवार को 6.7 मिमी बारिश दर्ज की गई। हालांकि ऐसा मौसम ज्यादा दिनों तक नहीं रहेगा।

बारिश हुई तो फसलों को होगा लाभ: इस समय अगर मावठे की बारिश हुई तो रबी सीजन की फसलों को काफी लाभ मिलेगा। इस समय गेंहू, चना,सरसों की फसलों में सिंचाई का सीजन चल रहा है। ऐसे में बारिश होने के फसलों का काफी हद तक लाभ होगा। साथ ही जिन किसानों के पास फसलों की सिंचाई के लिए पानी नहीं है। उनकी फसलों की सिंचाई हो जाएगी। मौसम का पूर्वानुमान देखते हुए कृषि विभाग ने किसानों के लिए सलाह जारी की है। किसानों से कहा गया है कि बारिश की संभावना को देखते हुए कपास के खिले हुए डेंडुओ की शीघ्रता से चुनाई करें। सब्जियों की कटाई कर बाजार में बेंच दें। बारिश की संभावना को देखते हुए फिलहाल बचे हुए किसान गेहूं की बोवनी तक रोक दें।

दिन में पहली बार दिखा ठंड का असर: बीते कुछ दिनों से दिन रात के पारे में उतार चढाब हो रहा था लेकिन पहली बार मौसम में तेजी से बदलाव देखा गया है। पहली बार दिन से समय सर्द हवा चलने की वजह से ठंड का असर दिखाई दिया है। जिसके कारण से दिन में लोगों को गर्म कपड़े पहनने पड़े। साथ ही दिन रात के पारे में भी गिरावट होगी। इस समय दिन का पारा 25.3डिग्री सेल्सियस व न्यूनतम 14.6 डिग्री सेल्सियस दर्ज केआसपास बना हुआ है। जो रात को 12 तक पहुंच जाएगा वही मौसम ठंडा होने से शिशु विशेषज्ञ राजेश जर्मा ने बताया इस मौसम में बच्चों को विशेष कर ध्यान रखा जाए।

 

पांच दिन में पारे का उतार-चढ़ाव

दिनांक अधिकतम नन्यूनतम
26 नवंबर 25.3 14.7
25 नवंबर 29.4 14.6
24 नवंबर 28.8 14.2
23 नवंबर 28.6 14.5
22 नवंबर 28.7 14.7

मावठा गिरा तो क्या होगा असर

1. किसानों के लिए लाभः मावठा गिरा तो किसानों को रबी की सिंचाई के लिए एक अतिरिक्त पानी मिल जाएगा। मौसम में यह बदलाव वजह से हुआ है। इसके चलते आने वाले दो दिन धार और आसपास के क्षेत्र में ओर भी बारिश की संभावना है।

2. ठंड बढ़ेगीः पानी गिरने से तापमान में कमी आएगी। जिससे क्षेत्र में ठंड बढ़ जाएगी। आने वाले तीन दिन कैसा रहेगा मौसम

27 नवंबर को अधिकतम तापमान 24 डिग्री और न्यूनतम तापमान 12 डिग्री सेल्सियस रहेगा। आसमान में घने बादल छाए रहेंगे। 15 किलोमीटर प्रति घंटे की रफ्तार से दक्षिण-पूर्वी हवा चलेगी। 28 नवंबर बारिश की संभावना नहीं है। अधिकतम तापमान 25 या 26 डिग्री और न्यूनतम तापमान 14. डिग्री सेल्सियस रहेगा। आसमान में छिटपुट बादल छाए रहेंगे। 10 किलोमीटर प्रति घंटे की रफ्तार से पूर्व दिशा से हवा चलेगी। 29 नवंबर बारिश की संभावना नहीं हैं। अधिकतम तापमान 26.7 डिग्री और न्यूनतम तापमान 15.9 डिग्री सेल्सियस रहेगा।आसमान साफ रहेगा। 10 किलोमीटर प्रति घंटे की रफ्तार से पूर्व दिशा से हवा चलेगी।

पश्चिमी विक्षोभ से बदला मौसम:
मौसम में यह बदलाव पश्चिमी विक्षोभ से बदला हुआ है। इसके चलते आने वाले दो दिन धार और आसपास के क्षेत्र में मौसम ऐसा ही रहना है फसलों के यह मौसम अच्छा है।
डॉ. जीएस गठिया, कृषि वैज्ञानिक धार