रोजगार से महिला सशक्तिकरण, आदिवासी युवतियों-महिलाओं को मिलेगा ड्राइविंग प्रशिक्षण


कलेक्टर आलोक सिंह इदौर की स्वयंसेवी संस्थाओ के माध्यम से वाहन चलाने का प्रशिक्षण देने का कॉन्सेप्ट तैयार कर रहे हैं। आश्चर्य नहीं होना चाहिए कि आने वाले कुछ महीनों बाद जिले के सदुर अंचलों में आदिवासी महिलाएं व युवतियां ड्राइविंग करती नजर आएं।


आशीष यादव आशीष यादव
धार Published On :
dhar-e-vehicle-women-driver

धार। विश्व महिला दिवस पर जिले की महिलाओं के लिए खुश होने वाली खबर है। रोजगार से सशक्तिकरण के तहत जिला प्रशासन आदिवासी बाहुल्य धार जिले की ट्रायबल गर्ल्स-वुमेंस को ड्राइविंग का प्रशिक्षण देने का प्लान तैयार कर रहा है।

कलेक्टर आलोक सिंह इदौर की स्वयंसेवी संस्थाओ के माध्यम से वाहन चलाने का प्रशिक्षण देने का कॉन्सेप्ट तैयार कर रहे हैं। आश्चर्य नहीं होना चाहिए कि आने वाले कुछ महीनों बाद जिले के सदुर अंचलों में आदिवासी महिलाएं व युवतियां ड्राइविंग करती नजर आएं।

इन महिलाओं को प्रशिक्षण देने के साथ ई-रिक्शा खरीदने के लिए ऋण प्लेटफॉर्म तैयार करने पर भी विचार किया जा रहा है। यदि यह प्लान क्रियान्वित होता है तो जिले में बड़े पैमाने पर महिलाओ को आर्थिक सशक्तिकरण में मदद मिलेगी।

दरअसल सुदूर अंचलों में गांव से गांव परिवहन एक समस्या है। शासन स्तर पर छोटे वाहनों को ग्रामीण परमिट जारी किए गए थे, लेकिन इसमें महिलाओ को जोड़कर काम देने का विचार पहली बार किया गया है।

आवागमन की समस्या भी होगी दूर –

आदिवासी अंचलों में महिलाओ को डाइविंग प्रशिक्षण मिलता है तो क्षेत्र में परिवहन की समस्या भी हल हो जाएगी। जिले में रूट की यात्री बसें तो मुख्य मार्गों से संचालित होती हैं, लेकिन फाटे से अंदर बसें गांव और टोले-मजरों के लोगों को आज भी मुख्य मार्ग पर आने के लिए लंबी दूरी पैदल तय करना पड़ती है।

ऐसे में इस तरह का कॉन्सेप्ट यदि क्रियान्वित होता है तो ग्रामीणों के आवागमन की समस्या भी दूर होगी। शासन ने भी पिंक रिक्शा कॉन्सेप्ट पर विचार किया था जिसमें इस तरह के वाहनों का संचालन महिलाओं द्वारा महिलाओं के लिए ही किया जाना था।

सीएम करेंगे समूह की महिलाओं से संवाद –

जिले में आजीविका मिशन के माध्यम से स्वसहायता समूह का निर्माण कर रोजगार से जोड़ा गया है। अंतरराष्ट्रीय महिला दिवस पर भोपाल में आयोजित कार्यक्रम में मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान समूह के सदस्यों से संवाद करेंगे।

इस संवाद कार्यक्रम में धार जिले के स्वसहायता समूहों को भी शामिल किया गया है। नालछा के शिवाजी संकुल स्तरीय संगठन के द्वारा संचालित समूह की महिलाओ से सीएम वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के माध्यम से चर्चा करेंगे। इस दौरान स्वसहायता समूह को बैंक लिंकेज कार्यक्रम अंतर्गत ऋण भी वितरण किया जाएगा।

हुनर हॉट में कला-कौशल का प्रदर्शन –

राज्य स्तर पर आयोजित हुनर हाट मेले में आजीविका मिशन जिला धार के स्वसहायता समह द्वारा उत्पादों के विक्रय हेतु स्टॉल लगाई जाएगी। जिला स्तर पर पीजी कॉलेज ग्राउंड पर शासन स्तर से 3 दिवसीय हुनर हाट मेले का आयोजन किया जा रहा है जिसमें स्वसहायता समूह की महिलाओं द्वारा तैयार किये जा रहे उत्पादों के विक्रय हेतु स्टॉल लगाए जाएगे। विकासखंड स्तर एवं पंचायत स्तर पर कार्यक्रम का लाइव प्रसारण दिखाया जाएगा।