कलेक्टर ने पीछा कर रुकवाई कार, अफसर से लिखवाया माफ़ीनामा


बीआरटीएस बस लेन में गाड़ी लेकर घुसी थी अपर कलेक्टर रैंक की अधिकारी, कलेक्टर ने लगाई फटकार। माफीनामा लिखने के बाद ही छोड़ा।


देश गांव
इन्दौर Updated On :

इंदौर। बात शुक्रवार दोपहर नवलखा चौराहे की है। बीआरटीएस की बस लेन में एक सरकारी गाड़ी से महिला उतरी और अपना परिचय अपर कलेक्टर कल्पना आनंद दिया। कलेक्टर मनीषसिंह ने पहले तो फटकार लगाई, फिर माफीनामा लिखकर देने का आदेश दे दिया।

वाकया कुछ यूं हुआ कि कलेक्टर मनीष सिंह चुनाव प्रशिक्षण कार्यक्रम के लिए छावनी से भंवरकुआ की ओर जा रहे थे। नवलखा पर उन्हें बीआरटीएस की बस लेन में एक सरकारी कार जाते दिखी। कलेक्टर ने गाड़ी का पीछा कर उसे रुकवाया।

गाड़ी में महिला अधिकारी थीं, उतरते ही बताया कि मैं अपर कलेक्टर कल्पना आनंद हूँ। एनवीडीए में (नर्मदा घाटी विकास प्राधिकरण) में पदस्थ हूँ।

कलेक्टर मनीषसिंह ने कहा आप कॉरिडोर के अंदर कैसे घूम रही हैं। सरकारी अधिकारी ही नियम तोड़ेंगे तो हम आम आदमी से कैसे नियमों का पालन करवा पाएंगे।

कलेक्टर ने महिला अफसर को फटकार लगाते हुए कहा कि बीआरटी कॉरिडोर केवल पब्लिक ट्रांसपोर्ट की बसों और आपातकालीन स्थिति में एंबुलेंस के लिए ही है।

उन्होंने अपर कलेक्टर की गाड़ी को एक तरफ खड़ी कराया और वहां मौजूद नगर निगम के अधिकारी को निर्देश दिए कि माफीनामा लिखवाकर ही गाड़ी को छोड़ा जाए।

आखिरकर अपर कलेक्टर आनन्द ने माफीनामा लिखकर दिया। नाम न देने के अनुरोध पर एक अफसर ने बताया कि बड़े अफसर का मामला है। लेकिन सीख सभी को मिलेगी। कलेक्टर साहब तो सख्त हैं ही।



Related