इंजेक्शन की कालाबाजारी कर रहा था नर्सिंग स्टाफ, पुलिस ने किया गिरफ्तार


आरोपी ने पूछताछ में बताया कि वह इंडेक्स कॉलेज में बतौर नर्सिंग स्टाफ पदस्थ है और उसने अपना नाम शोएब शेख बताया है। पकड़े गए आरोपी के पास से रेमडिसिवर इंजेक्शन का एक वॉयल भी पुलिस ने जब्त किया है, जिसे आरोपी करीब 16 हजार रुपये में बेचने के लिए आया था।


देश गांव
इन्दौर Published On :
remdisiver-indore

इंदौर। इंदौर की एमआईजी पुलिस ने कोरोना संक्रमण के इलाज में कागरग बताए जा रहे रेमडिसिवर इंजेक्शन की कालाबाजारी कर रहे एक आरोपी नर्सिंग स्टाफ को गिरफ्तार किया है।

फिलहाल पुलिस ने आरोपी युवक के खिलाफ धारा 188 के तहत कार्रवाई कर मामले की जांच शुरू कर दी है। बता दें कि इंदौर में बढ़ते कोरोना संक्रमण के मामलों के बीच इसके उपचार में कारगर माने जाने वाले रेमडिसिवर इजेक्शन को लेकर मारामारी का दौर जारी है।

इस एक इंजेक्शन की आस में संक्रमित मरीजों के परिजन सुबह से लेकर शाम तक जद्दोजहद कर रहे हैं। वहीं अब इस इंजेक्शन की कालाबाजारी के मामले भी सामने आने लगे हैं।

इसी कड़ी में एमआईजी पुलिस को एक फरियादी ने सूचना दी थी कि एक व्यक्ति उन्हें रेमडिसिवर इंजेक्शन ब्लैक में देने के लिए आ रहा है। सूचना के आधार पर पुलिस ने योजनाबद्ध तरीके से आरोपी को गिरफ्तार कर लिया।

आरोपी ने पूछताछ में बताया कि वह इंडेक्स कॉलेज में बतौर नर्सिंग स्टाफ पदस्थ है और उसने अपना नाम शोएब शेख बताया है। पकड़े गए आरोपी के पास से रेमडिसिवर इंजेक्शन का एक वॉयल भी पुलिस ने जब्त किया है, जिसे आरोपी करीब 16 हजार रुपये में बेचने के लिए आया था।

एमआईजी थाना प्रभारी विनोद दीक्षित ने बताया कि पकड़ा गया आरोपी खुद को नर्सिंग कॉलेज का होना बता रहा है। अगर आरोपी ने रेमडिसिवर इंजेक्शन बेचने के लिए लिया है तो उस पर कड़ी कार्यवाई पुलिस द्वारा की जायेगी और साथ ही ड्रग्स विभाग को भी मामले की जानकारी दी गई है।