सरकारी जमीन खोद रहे थे जीतू पटवारी के रिश्तेदार, लगा जुर्माना


बताया जाता है कि यह पूरी जमीन सरकारी है और पोकलेन मशीन के मालिक चेतन पटवारी और कुणाल पटवारी के द्वारा बिना अनुमति यहां खनन किया जा रहा था। कार्रवाई के दौरान यहां पर प्रशासनिक टीम से काफी विवाद भी किया गया जिसका मामला तेजाजी नगर थाने में दर्ज किया गया था।


देश गांव
इन्दौर Updated On :

इंदौर। इंदौर प्रशासन ने जहां एक और कंप्यूटर बाबा पर अतिक्रमण के विरोध में कार्रवाई की तो वहीं दूसरी ओर पूर्व मंत्री और विधायक जीतू पटवारी के परिवार से जुड़े लोगों पर भी कार्रवाई की है। यह मामला तो पुराना है लेकिन कंप्यूटर बाबा पर कार्रवाई से ठीक पहले इस बारे में निर्णय लिया जाना भी दिलचस्प है।

प्रशासन ने राहुल क्षेत्र के केलोद करताल गांव में 5 महीने पहले अवैध खनन के मामले में कार्रवाई की थी इस मामले में बीजलपुर के रहने वाले चेतन अनिल पटवारी और कुणाल मुकेश पटवारी पर 16 लाख 97लाख रु की रॉयल्टी का मामला बनाया गया है। प्रशासन ने नियमानुसार अब इस रॉयल्टी कि 30 गुना राशि यानि करीब 5 करोड़ 9 लाख रु का जुर्माना इन दोनों पर लगाया है।

प्रशासन ने कार्रवाई 19 जून को बिचोली हप्सी तहसील के अंतर्गत केलोद करताल गांव में की थी जहां सरकारी जमीन पर अवैध खनन कर मोरम निकाली जा रही थी। प्रशासन की इस कार्रवाई में पोकलेन मशीन और मुरम से भरा हुआ डंपर भी जप्त किया गया था।

बताया जाता है कि यह पूरी जमीन सरकारी है और पोकलेन मशीन के मालिक चेतन पटवारी और कुणाल पटवारी के द्वारा बिना अनुमति यहां खनन किया जा रहा था। कार्रवाई के दौरान यहां पर प्रशासनिक टीम से काफी विवाद भी किया गया जिसका मामला तेजाजी नगर थाने में दर्ज किया गया था।

प्रशासन से मिली जानाकरी के अनुसार पटवारी बंधु इस जमीन पर अवैध खनन करके यहां से निकलने वाली मुरम को बाजार में बेच रहे थे और यह काम पिछले काफी समय से जारी था। कांग्रेस की सरकार के दौरान भी इस बारे में शिकायतें किए जाने की बात सामने आई है लेकिन उस समय प्रशासन ने इस पर कोई ध्यान नहीं दिया था।



Related