मंत्री सिलावट व सीएमएचओ के ड्राइवर से जुड़े रेमडेसिविर कालाबाजारी के तार, 14 हजार में बेचा था इंजेक्शन


इंदौर की जिला स्वास्थ्य अधिकारी डॉ. पूर्णिमा गाडरिया के ड्राइवर पुनीत अग्रवाल पुत्र ओमप्रकाश अग्रवाल निवासी ओल्ड अग्रवालनगर ने मंत्री तुलसीराम सिलावट के ड्राइवर गोविंद राजपूत का नाम बताया है, जो उसे रेमडेसिविर इंजेक्शन उपलब्ध करवाता था।


देश गांव
इन्दौर Updated On :
minister-driver-remdesivir-blackmarketing

इंदौर। इंदौर जिले में रेमडेसिविर इंजेक्शन की कालाबाजारी मामले में नर्स, डॉक्टर, अस्पतालकर्मियों व बिचौलियों के बाद अब मंत्री-अफसर के ड्राइवर्स का गिरोह सामने आया है।

इंदौर की जिला स्वास्थ्य अधिकारी डॉ. पूर्णिमा गाडरिया के ड्राइवर पुनीत अग्रवाल पुत्र ओमप्रकाश अग्रवाल निवासी ओल्ड अग्रवालनगर ने मंत्री तुलसीराम सिलावट के ड्राइवर गोविंद राजपूत का नाम बताया है, जो उसे रेमडेसिविर इंजेक्शन उपलब्ध करवाता था।

इस मामले पर जब मंत्री तुलसीराम सिलावट का पक्ष जानने की कोशिश की गई तो उन्होंने कहा कि ड्राइवर निजी ट्रेवल एजेंसी का है। उसने कहां से इंजेक्शन लिए इसकी जांच होना चाहिए। जो दोषी है उस पर विधिवत कार्रवाई भी होना चाहिए।

पुनीत ने दावा किया है कि निजी ट्रेवल्स से जुड़ा गोविंद राजपूत मंत्री तुलसीराम सिलावट की पत्नी की कार चलाता है और 14 हजार रुपये प्रति इंजेक्शन के हिसाब के उसे इंजेक्शन बेचा था।

बता दें कि सीएमएचओ के ड्राइवर पुनीत को विजयनगर थाना पुलिस ने सोमवार की रात रेमडेसिविर इंजेक्शन की अवैध खरीद-फरोख्त के आरोप में गिरफ्तार किया था।

विजयनगर थाना टीआई तहजीब काजी ने बताया कि

ओल्ड अग्रवालनगर निवासी पुनीत पुत्र ओमप्रकाश अग्रवाल के बारे में खबर मिली थी कि पीसी सेठीनगर में रह रहा पुनीत रेमडेसिविर इंजेक्शन की अवैध खरीद-फरोख्त कर रहा है। सोमवार रात पुलिस ने खरीददार बनकर पुनीत को दो रेमडेसिविर इंजेक्शन के साथ गिरफ्तार किया था। उसने पूछताछ में गोविंद से इंजेक्शन खरीदना स्वीकार किया है।

मंगलवार दोपहर आरोपी पुनीत तो कोर्ट में पेश कर गुरुवार तक रिमांड पर ले लिया गया है और अब गोविंद से भी पूछताछ की जाएगी। टीआई के मुताबिक गोविंद इम्पेट्स ट्रेवल एजेंसी का ड्राइवर है।

पुनीत ने यह बताया कि गोविंद ने स्वयं के लिए इंजेक्शन खरीदे थे और भाव के भाव उसे दे दिए। पुनीत 14 हजार रुपये के हिसाब से बेचने की फिराक में था।