कोविड अस्पतालों में लगी ड्यूटी, भेदभाव का आरोप लगाते हुए सौ से ज्यादा स्टाफ नर्स ने डीन के सामने जताया विरोध


सोमवार की सुबह जब ड्यूटी पर पहुंचे स्टाफ नर्स को इसकी जानकारी मिली तो वे परेशान हो गए और करीब 100 से ज्यादा स्टाफ नर्स मेडिकल कॉलेज के डीन के कार्यालय पर विरोध प्रदर्शन के लिए पहुंच गए।


देश गांव
इन्दौर Published On :
nurse-staff-protest

इंदौर। शहर में कोरोना संक्रमण के बढ़ते मामलों को देखते हुए एमवायएच प्रबंधन ने तकरीबन 244 स्टाफ नर्स की आगामी आदेश तक मेडिकल कॉलेज से जुड़े सुपर स्पेशलिटी, एमटीएच व एआरटीबी अस्पतालों में ड्यूटी लगा दी, जहां पर इन दिनों कोरोना संक्रमित मरीजों का इलाज चल रहा है।

सोमवार की सुबह जब ड्यूटी पर पहुंचे स्टाफ नर्स को इसकी जानकारी मिली तो वे परेशान हो गए और करीब 100 से ज्यादा स्टाफ नर्स मेडिकल कॉलेज के डीन के कार्यालय पर विरोध प्रदर्शन के लिए पहुंच गए।

नर्सिंग एसोसिएशन के जिला अध्यक्ष धर्मेंद्र पाठक के मुताबिक, एमवायएच में भेदभावपूर्ण तरीके से स्टाफ नर्स की कोविड अस्पतालों में ड्यूटी लगाई जा रही है।

मेडिकल कॉलेज प्रबंधन द्वारा इन अस्पतालों के लिए अभी तक एनआरएचएम के तहत नर्सिंग स्टाफ की नियुक्ति नहीं की जा सकी है। एमवायएच का काफी स्टाफ अब भी इन कोविड अस्पतालों में काम कर रहा है, लेकिन अस्पताल प्रबंधन द्वारा 244 स्टाफ को आगामी आदेश तक कोविड अस्पतालों में ड्यूटी लगाए जाने के फरमान से सभी स्टाफ नाराज है।

इतना ही नहीं प्रबंधन द्वारा भेदभाव किया जा रहा है और कैंसर व मनोरोग विभाग में जहां अभी ज्यादा मरीज भर्ती नहीं हो रहे हैं, वहां के स्टाफ की सेवाएं कोविड अस्पतालों में नहीं ली जा रही है।

हालात यह है कि एमटीएच में जो स्टाफ नर्स नाइट ड्यूटी करती है उन्हें अगले दिन सुपर स्पेशलिटी में सुबह की ड्यूटी में लगा दिया जाता है। इन्हीं मुद्दों को लेकर हम सभी नर्सिंग स्टाफ डीन से मिले। उन्होंने आश्वासन दिया कि एमवायएच अधीक्षक से बात कर इस समस्या का जल्द ही निराकरण करेंगे।