इंदौर में गृहमंत्री नरोत्तम मिश्रा ने कहा – वैक्सीनेशन से ही 100 प्रतिशत जाएगा कोरोना


उन्होंने कहा कि कोरोना से बचाव का सबसे बड़ा तरीका वैक्सीनेशन ही है। ये बात साबित हुई है कि विश्व के कई देशों ने वैक्सीनेशन कर ही कोरोना पर 90 प्रतिशत तक जीत पाई है। लिहाजा, 1 मई से शुरू होने वाले वैक्सीनेशन को लेकर उन्होंने कहा कि 45 लाख वैक्सीन मध्यप्रदेश में आएगी।


देश गांव
इन्दौर Published On :
narottam-mishra-indore

इंदौर। इंदौर पहुंचे गृहमंत्री नरोत्तम मिश्रा ने प्रशासनिक अधिकारियों के साथ बैठक करने के बाद पुलिस क्वॉरेंटाइन सेंटर का शुभारंभ किया। इस मौके पर उन्होंने कई घोषणाएं भी कीं।

गृहमंत्री ने साफ किया कि रेमडेसिविर इंजेक्शन से लेकर ऑक्सीजन की उपलब्धता अब सामान्य होती जा रही है और जल्द इनकी कमी को एक स्तर पर लाया जाएगा। हालांकि उन्होंने अस्पतालों में बेड नहीं मिलने को लेकर कहा कि सरकार इस पर भी काम कर रही है।

निजी अस्पतालों द्वारा वसूले जा मनमाने बिलों को लेकर गृहमंत्री ने कहा कि इस मामले को लेकर भी जल्द एक्शन लिया जाएगा। इंदौर में गृहमंत्री ने पहले प्रशासनिक अधिकारियों और जनप्रतिनिधियों के साथ बैठक कर कोरोना संक्रमण को लेकर तमाम दिशा-निर्देश दिए। इसके बाद डीआरपी लाइन में निर्मित पुलिस क्वॉरेंटाइन सेंटर का शुभारंभ किया।

4500 कैदियों को मिलेगी पैरोल, कोरोना योद्धा राशि और बीमा 2 माह के लिए होगा लागू –

इस मौके पर मीडिया से बात करते हुए उन्होंने बताया कि मध्यप्रदेश में एक बार फिर सीएम शिवराज सिंह चौहान ने कोरोना योद्धा के लिए पहले वाली योजना को दो माह के लिए बढ़ाया है।

कोर्ट नहीं खुलने के कारण जेल में कैदियों का दबाव बढ़ा है। लिहाजा पहले की ही तरह एक बार फिर प्रदेश में 4500 कैदियों को पैरोल पर रिहा किया जाएगा।

उन्होंने बताया कि इंदौर में अब तक पुलिस विभाग के कुल 724 जवान सेवा करते हुए संक्रमित हुए हैं जिनमें से वर्तमान में 111 लोगों का इलाज जारी है। इन 111 में से 106 की हालत में सुधार है और 5 आईसीयू में इलाजरत हैं। उन्होंने बताया कि 60 वर्षीय महिला पुलिसकर्मी की हालत गंभीर है।

ग्रामीण क्षेत्रों में कोरोना बढ़ना चिंता की बात, कालाबाजारी करने वालों पर लगेगी रासुका –

इधर, गृहमंत्री ने इस बात पर चिंता जताई कि कोरोना अब ग्रामीण क्षेत्रों में बढ़ रहा है। हालांकि उन्होंने कहा कि हर गांव में आशा, उषा और स्वास्थ्य विभाग की टीम बनाई गई है ताकि जांच हो, इलाज हो और वैक्सीनेशन किया जा सके।

उन्होंने ये भी कहा कि रेमडेसिविर की कालाबाजारी करने वाला चाहे जो भी हों उन पर रासुका के तहत कार्रवाई की जाएगी। जब उनसे मौत के वास्तविक आंकड़ों को लेकर सवाल किया गया तो उन्होंने कहा कि सरकार सीधे श्मशान की स्थिति देखकर रिपोर्ट नहीं बनाती है।

गृहमंत्री नरोत्तम मिश्रा ने कहा कि जो स्वास्थ्य विभाग आंकड़े उपलब्ध कराता है वही बुलेटिन जारी होता है। हम मौत के आंकड़े क्यों छुपाएंगे क्योंकि मौत कोई दंगों से तो नहीं हो रहे हैं जिसमें मौत के आंकड़े छुपाए जाएं। यह तो एक महामारी है जहां सरकार कोरोना की रोकथाम के लिए सरकार युद्ध स्तर पर लगी हुई है।

उन्होंने कहा कि कोरोना से बचाव का सबसे बड़ा तरीका वैक्सीनेशन ही है। ये बात साबित हुई है कि विश्व के कई देशों ने वैक्सीनेशन कर ही कोरोना पर 90 प्रतिशत तक जीत पाई है। लिहाजा, 1 मई से शुरू होने वाले वैक्सीनेशन को लेकर उन्होंने कहा कि 45 लाख वैक्सीन मध्यप्रदेश में आएगी और पुलिस परिवार से जुड़े लोगों को उनकी कॉलोनी सहित विशेष व्यवस्था कर टीकाकरण किया जाएगा।

कांग्रेस सिर्फ राजनीति कर रही है, बंगाल में 200 से ज्यादा सीट जीतेंगे –

इधर, कांग्रेस और पीसीसी चीफ कमलनाथ पर सवाल उठाते हुए उन्होंने कहा कि सोनिया गांधी से लेकर दिग्विजय सिंह किसी ने भी वैक्सीनेशन नहीं कराया है और कहा कि उन्होंने वैक्सीनेशन के नाम पर एक फोटो ही खिंचवा लिया होता तो ठीक होता। बजाय कि राजनीति करने के।

उन्होंने कहा कि कमलनाथ नेता प्रतिपक्ष और उद्योगपति हैं। फिर भी बस नाटक कर रहे हैं। ट्विट कर रहे हैं। उनके पास पहले राजनीति करने का अवसर था तब तो राजनीति नहीं की। अब लेटे-लेटे ट्वीट करते हैं।

गृहमंत्री मिश्रा ने कहा कि कांग्रेस के लोग सिर्फ मीडिया में आने के लिए बोल रहे हैं कि लाखों ले लो इंजेक्शन दे दो। अगर इतना ही साथ देना है तो कलेक्टर के पास पेपर पर लिख कर दे दो। कोई कलेक्टर मना नहीं करेगा।

इधर, पश्चिम बंगाल में चुनाव को लेकर उठे सवाल पर मिश्रा ने कहा कि बीजेपी 200 से अधिक सीट से सरकार बनाएगी। उन्होंने ममता बनर्जी पर हमला करते हुए कहा कि अभी वह कोरोना का आरोप लगा रही हैं। बीजेपी जीत जाएंगी तो कहेंगे कि ईवीएम में गड़बड़ी थी।

इधर, बंगाल में चुनाव आयोजन को लेकर गृहमंत्री ने साफ कहा कि क्या राजस्थान, दिल्ली, छत्तीसगढ़ इन सभी जगह भी चुनाव थे तो क्यों कोरोना इन राज्यों में बढ़ा है।