रतलाम: लोकायुक्त पुलिस ने मत्स्य विभाग के सहायक संचालक को किया रंगे हाथो गिरफ्तार


रतलाम के होमगार्ड कॉलोनी रोड स्थित मछली पालन विभाग के मत्स्योद्योग कार्यालय में सहायक संचालक आरोपित बहादुर सिंह को लोकायुक्त पुलिस उज्जैन की टीम ने मंगलवार दोपहर 10 हजार रुपये की रिश्वत लेते रंगे हाथो धर दबोचा।


देश गांव
उज्जैन Published On :
lokayukta-team

रतलाम। रतलाम के होमगार्ड कॉलोनी रोड स्थित मछली पालन विभाग के मत्स्योद्योग कार्यालय में सहायक संचालक आरोपित बहादुर सिंह को लोकायुक्त पुलिस उज्जैन की टीम ने मंगलवार दोपहर 10 हजार रुपये की रिश्वत लेते रंगे हाथो धर दबोचा।

बहादुर सिंह ने यह रिश्वत जावरा तहसील के रूपनिया डेम में मछली पालने के लिए अनुदान राशि स्वीकृत कराने के लिए पट्टाधारी शोभाराम धाकड़ निवासी ग्राम पिपलोदी से ली थी।

शिकायतकर्ता शोभाराम के बयान के मुताबिक,

उन्होंने दो माह पहले मछली पालन के लिए रुपानिया डेम का पट्टा शासन से आवंटित कराया था। उन्हें पट्टा जारी हो गया था और शासन की तरफ से डेढ़ लाख रुपये का अनुदान मछली पालन के लिए मिलना था। उसके लिए उन्होंने सहायक संचालक बहादुर सिंह से एक हफ्ता पहले संपर्क किया था। अनुदान के लिए आवेदन करने और अनुदान स्वीकृत कराने के लिए बहादुर सिंह ने 25 हजार रुपये की रिश्वत मांगी थी। उन्होंने दो किस्तों में रुपये देने की बात तय की थी। पहली किस्त के रूप में 10 हजार रुपये देना था।

अनुदान के लिए आवेदन स्वीकृत कराने के लिए रिश्वत मांगे जाने की शिकायत शोभाराम ने 18 दिसंबर को उज्जैन जाकर लोकायुक्त एसपी को की थी।

इसके बाद लोकायुक्त ने बहादुर सिंह को रिश्वत लेते पकड़ने की योजना बनाई और वॉइस रिकॉर्डर देकर शोभाराम को बहादुर सिंह के पास भेजा। बहादुर सिंह से बातचीत में शोभाराम ने पहली किश्त के 10 हजार रुपये 22 दिसंबर को देना तय किया।

इसकी जानकारी लोकायुक्त को दी। लोकायुक्त की टीम मंगलवार दोपहर करीब एक बजे शोभाराम के साथ कार्यालय के पास पहुंची और शोभाराम को अंदर जाकर रुपये देने के लिए कहा।

शोभाराम ने कार्यालय में जाकर बहादुर सिंह को 10 हजार रुपये दिए। बहादुर सिंह ने रुपये अपनी डायरी में रखवा कर उसे टेबल की दराज में रख लिया।

इसके बाद शोभाराम ने बाहर जाकर लोकायुक्त टीम को बताया कि बहादुर सिंह ने रुपये लेकर टेबल की दराज में रखे हैं। डीएसपी वेदांत शर्मा के नेतृत्व में टीम कार्यालय में पहुंची और रिश्वत के रुपये जब्त किए।

डीएसपी वेदांत शर्मा ने बताया कि 

आरक्षक विशाल रेशमिया, शिवकुमार शर्मा, अनिल अटोलिया और सहायक ग्रेड-2 अशोक खत्री की टीम ने सहायक संचालक बहादुर सिंह को 10 हजार रुपये की रिश्वत लेते पकड़ा है। अभी कार्रवाई जारी है।



Related