VIDEO: उज्जैन में पत्थरबाजों के मकान तोड़ने पहुंचा पुलिस-प्रशासन, धरने पर बैठे स्थानीय लोग


जिला प्रशासन का दल वीडियो फुटेज के आधार पर पुलिस बल की मौजूदगी में यह मकान तोड़ ही रहा था कि बड़ी संख्या में मुस्लिम समुदाय के लोग एकत्रित हो गए और वहां पर इस कार्रवाई का विरोध करते हुए धरना-प्रदर्शन शुरू कर दिया।


देश गांव
उज्जैन Updated On :
ujjain-incident

उज्जैन। हिंदूवादी संगठनों द्वारा श्रीराम मंदिर निर्माण हेतु निकाली गई जन जागरण रैली पर शुक्रवार शाम हुए पथराव के बाद शनिवार को पुलिस-प्रशासन का दल उन मकान को तोड़ने पहुंचा, जिनकी छत से लोगों ने पत्थर फेंके थे।

जिला प्रशासन का दल वीडियो फुटेज के आधार पर पुलिस बल की मौजूदगी में यह मकान तोड़ ही रहा था कि बड़ी संख्या में मुस्लिम समुदाय के लोग एकत्रित हो गए और वहां पर इस कार्रवाई का विरोध करते हुए धरना-प्रदर्शन शुरू कर दिया।

इलाके में तनाव बढ़ता हुआ देखकर जिला व पुलिस प्रशासन ने पूरे क्षेत्र को छावनी में बदल दिया। इतना ही नहीं खुद जिला कलेक्टर आशीष सिंह और एसपी सत्येंद्र शुक्ला ने शहर काजी से इस कार्रवाई को लेकर चर्चा की।

बता दें कि शुक्रवार शाम महाकाल मंदिर के समीप भारत माता मंदिर में आरती और प्रबोधन होने वाला था। इसमें अयोध्या में बन रहे राम मंदिर को लेकर जानकारी सहित अन्य विषयों पर चर्चा होनी थी।

भाजयुमो, बजरंग दल आदि संगठन के कार्यकर्ता सहित कुछ और संगठनों के सदस्य शहर के अलग-अलग इलाकों से एकत्रित होकर भारत माता मंदिर पहुंच रहे थे। इस दौरान बेगमबाग क्षेत्र में पथराव शुरू हो गया था।

बेगमबाग में हुए पथराव के कारण अफरा-तफरी की स्थिति बन गई। इस पथराव में नौ लोगों के घायल होने के बाद तनाव बढ़ा गया। इस दौरान कई वाहन भी क्षतिग्रस्त हो गए।

बता दें कि शहर का बेगमबाग क्षेत्र सबसे संवेदनशील क्षेत्र माना जाता है। साल की शुरुआत में यहां सीएए के विरोध में कई दिनों तक धरना-प्रदर्शन चला था। इस मार्ग के महाकाल मंदिर से जुड़ने के कारण विवाद की स्थिति भी बनी थी।



Related